मोदी दुश्मनी पालकर बैठे हैं तो हम दोस्ती क्यों करें...

-वाराणसी से जयदीप कर्णिक

FILE

जब यहां के वाशिंदों को को लेकर कुरेदा गया तो छूटते ही बोले कि मुसलमान नरेन्द्र मोदी को तो वोट नहीं देंगे। वे कहते हैं कि भले ही उनका इलाका विकास से अछूता है, लेकिन गुजरात में मुसलमानों के साथ जो हुआ है, वोट के जरिए उसका माकूल जवाब देने का मौका आ गया है। सभी लोगों ने एकसुर मं मोदी के खिलाफ नाराजी जाहिर की। उन्होंने कहा कि किसी को भी वोट दे देंगे, लेकिन नरेन्द्र मोदी को तो वोट नहीं देंगे।

WD|
बजरडीहा की काफी पिछड़ी बस्ती है। यहां रहने वाले ज्यादातर बुनकर हैं। यहां करघों की घरघराहट सुनाई देती है तो गरीबी और गंदगी में रहने की कराह भी। नालियों से रिसती गंदगी जिंदगी को और दूभर बनाती है तो बदहाल सड़कें व्यवस्था की पोल खोलती हैं। लोगों में व्यवस्था के प्रति तो गुस्सा है मगर इस सबसे ज्यादा गुस्सा है नरेन्द्र मोदी को लेकर।
वे सवाल उठाते हैं कि जब नरेन्द्र मोदी हमसे दुश्मनी पालकर बैठे हैं तो फिर हम उनसे दोस्ती क्यों करें? जब उनसे पूछा गया कि मुख्तार अब्बास नकवी, शाहनवाज हुसैन भाजपा से जुड़े हैं, शिया लोग तो भाजपा को वोट देते हैं तो वे बोले कि हम ऐसे लोगों को मुसलमान ही नहीं मानते। भाजपा और उससे जुड़े मुसलमानों को लेकर तो इनमें काफी गुस्सा है, लेकिन गंदी नालियों और खराब सड़कों पर ज्यादा कुछ नहीं बोलते। बस इतना ही कहते हैं हम क्या कर सकते हैं, यह तो नेताओं को सोचना चाहिए।

...तो फिर किसको मिलेंगे मुस्लिम वोट... पढ़ें अगले पेज पर...


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :