धर्म देश के बीच आया तो धर्म छोड़ दूंगा...

-जयदीप कर्णिक

WD|
FILE
अमेठी। आम आदमी पार्टी के नेता कवि कुमार विश्वास कैसे राजनेता साबित होंगे यह तो चुनाव परिणाम के बाद पता चलेगा, लेकिन वे कहते हैं कि आप के किसी भी नेता की राजनीतिक महत्वाकांक्षा नहीं है। हम तो आज भी राजनीति छोड़ने को तैयार हैं।

चुनाव प्रचार की गहमागहमी के बीच वेबदुनिया के संपादक जयदीपक कर्णिक के साथ कुमार विश्वास अपने चिर-परिचित अंदाज में खुलकर बोले। उन्होंने कहा कि जिस दिन संसद का संयुक्त सत्र हमारे जनलोकपाल, राइट टू रिकॉल, ‍राइट टू रिजेक्ट जैसे मुद्दों को स्वीकार कर लेगा, राजनीतिक दल आरटीआई के दायरे में आ जाएंगे तो हमें राजनीति करने की जरूरत ही नहीं पड़ेंगी। इससे राजनीति का शुद्धिकरण होगा, हम चले जाएंगे। उनसे पूछा गया था कि अरविंद केजरीवाल और उनकी टीम की राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं शुरू से ही थीं और वे इस तैयारी में थे कि इस के आंदोलन पर सवार होकर वे अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को पूरा करेंगे?
विस्तृत इंटरव्यू के लिए देखें वीडियो


राहुल गांधी और मनमोहनसिंह पर निशाना साधते हुए कुमार ने कहा कि जब प्रधानमंत्री ने यह कहा कि मैं राहुल गांधी के लिए कुर्सी छोड़ने के लिए तैयार हूं, आप (राहुल) जाकर बैठ जाएं। ऐसा कहकर उन्होंने देश के युवाओं का अपमान किया है। अमेठी उत्तरप्रदेश के पिछड़े पांच जिलों में से एक है। राहुल यहां की जनता के साथ धोखा कर रहे हैं। अमेठी एक उदाहरण है कि बड़े नेता किस तरह से जनता का भावनात्मक शोषण करते हैं, उस जगह को अशिक्षित, रोजगारहीन, पिछड़ा बनाए रहते हैं ताकि वे जीतते रहें, इसलिए मुझे यहां आना पड़ा। मैं 200 प्रतिशत यहां चुनाव जीतूंगा।

किसने बनाया राजनीति को भ्रष्ट... पढ़ें अगले पेज पर...



और भी पढ़ें :