आजम खां नाराज, मुलायम से क्या बोले...

अरविन्द शुक्ला

PR

आजम खां ने अपने पत्र में चुनाव आयोग द्वारा उन पर लगाए गए आरोपों की सफाई दी गई है और उन्होंने लिखा है कि संवैधानिक संस्थाएं भी अगर कमजोरों का दर्द बयान करने से रोक देंगी और जुबांबंदी कर दी जाएगी तो इसके नतीजे अच्छे नही होंगे। आज मेरी जुबांबंदी की गई है, कल किसी और की, की जाएगी और वह दिन दूर नहीं, जब कमजोर की वकालत करने वाली कोई जुबान नहीं छोड़ी जाएगी।

आजम खां लिखते हैं कि अभी मुझ पर जुबांबंदी का ताला है, लेकिन मेरी रगों में दौड़ने वाले लहू, सोचने-समझने की सलाहियत और चलने-फिरने के मेरे अधिकार पर किसी का पहरा नहीं है। मैं जानता हूं कि कांग्रेस कुछ भी करा सकती है और साथ ही फासिस्ट ताकतें मेरी बर्बादी के लिए किसी हद तक जा सकती हैं।

उल्लेखनीय है कि आजम के विरुद्ध अब तक बिजनौर जिले में 2, गाजियाबाद, रामपुर, संभल और शामली में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन तथा भड़काऊ भाषण देने के आरोप में 1-1 मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

WD| पुनः संशोधित बुधवार, 16 अप्रैल 2014 (10:59 IST)
लखनऊ। देश के द्वारा प्रदेश के कैबिनेट मंत्री आजम खां पर चुनावों के दौरान आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप पर आधा दर्जन प्राथमिकी दर्ज कराए जाने और उनको चुनावी दौरों और सार्वजनिक सभाओं में भाषण देने, जुलूस अथवा रोड शो निकालने पर प्रतिबंध लगाए जाने पर मो. आजम खा ने अपनी सफाई देते हुए पार्टी मुखिया सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को 4 पन्नों का एक पत्र लिखा है।
चुनाव आयोग ने 11 अप्रैल को आजम खां पर सार्वजनिक सभाओं में भाषण देने, जुलूस अथवा रोड शो निकालने पर प्रतिबंध लगाते हुए भड़काऊ भाषण के मामले में आपराधिक मुकदमे दर्ज करने के आदेश दिए थे।

अगले पन्ने पर... क्यों कसा चुनाव आयोग ने आजम पर शिकंजा...



और भी पढ़ें :