फनी कविता : मौत निठल्ली खड़ी-खड़ी


निठल्ली खड़ी-खड़ी,
हमको खूब समझाती है।
 
क्या जाएगा साथ तुम्हारे,
कर्मों की कथा सुनाती है।।
 
जान-बूझ जो गलत किया,
वे दृश्य दिखाई देते हैं।
बुरे कर्म का यही नतीजा,
कान मेरे सुन लेते हैं।।
 
दो गज कफन तुम्हें मिलेंगे,
ओ खिल्ली मेरी उड़ाती है।
 
माया-मोह में पाप किया जो,
दूसरों के हक को खाया हूं।
जीव-जंतु की हत्या करके,
तुमसे लड़ने मैं आया हूं।।
 
प्राण-पखेरू लेकर मेरा,
हमको सबक सिखाती है।।> >  

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :