पर्यावरण विशेष : विकास की अंधी दौड़ से प्रकृति विनाश की ओर

अगर बात भारत के वायु प्रदूषण करी जाये तो आज भारत देश के बड़े-बड़े शहरों में अनगिनत जनरेटर धूंआ उगल रहे हैं, वाहनों से निकलने वाली गैस, कारखानों और विद्युत गृह की चिमनियों तथा स्वचालित मोटरगाड़ियों में विभिन्न इंधनों के पूर्ण और अपूर्ण दहन भी प्रदूषण को बढ़ावा दे रहे हैं, और की सेहत को नुकसान पहुंचा रहे हैं। लगातार जहरीली गैसों कार्बन डाई ऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड, नाइट्रोजन आक्साइड, सल्फर डाइआक्साइड और अन्य गैसों सहित एसपीएम, आरपीएम, सीसा, बेंजीन और अन्य खतरनाक जहरीले तत्वों का उत्सर्जन लगातार बढ़ रहा है। जो कि मुख्य कारण है वायु प्रदूषण का। कई राज्यों में इस समस्या का कारण किसानों द्वारा फसल जलाना भी है। साथ ही साथ अधिक पटाखों का जलाना भी वायु प्रदूषण को बढ़ावा देता है।

आज जरूरत है केंद्र और प्रदेश सरकारों को वायु-प्रदूषण से होने वाले स्वास्थ्य-जोखिम के बारे में जागरूकता बढ़ानी चाहिए। और लोगों को विज्ञापन या अन्य माध्यम से वायु प्रदूषण व अन्य प्रदूषण के बारे में जागरूक किया जाना चाहिए। लेकिन विडंबना है कि इस पर अमल नहीं हो रहा है। सरकार को किसानों को फसलों को न जलाने के लिए जागरूक करना चाहिए। किसानों को फसलों को जलाने की जगह चारे, खाद बनाने या अन्य प्रयोग के लिए जागरूक करना चाहिए। ज्यादा प्रदूषण करने वाले पटाखों पर भी सरकार को प्रतिबंध लगाना चाहिए। हमारी सरकार को ईधन की गुणवत्ता को बढ़ाकर पॉल्यूशन को काफी हद तक कंट्रोल करने पर जोर देना चाहिए। जिससे उसमें उपलब्ध जरूरी तत्वों की मात्रा आवश्यकता से अधिक न हो तथा उत्सर्जन निर्धारित मानक अनुसार रहे। ईंधन से ज्यादा प्रदूषण करने वाले तत्वों की कमी कैसे की जाए इस पर भी सरकारों को मिलकर काम करना चाहिए। कम पॉल्यूशन करने वाले ईधन जैसे सीएनजी, एलपीजी इत्यादि का अधिक प्रयोग करने लिए लोगों में जागरूकता बढ़ानी चाहिए, साथ ही साथ यातायात प्रणाली में सुधर करना चाहिए।

आज सरकारों को उत्सर्जन मानकों का भी सुदृढ़ीकरण करने की जरूरत है। अगर लोग साइलेंसर पर केटालिक कनवर्टर लगाएं तो भी वाहन द्वारा होने वाले वायु प्रदूषण को कम किया जा सकता है। सरकार को लोगों को वाहनों का समय पर मेंटेनेंस कराने के लिए जागरूक करना चाहिए। जागरूक लोगों को स्वतः ही अपने वाहनों का मेंटेनेंस करना चाहिए। जब प्रदूषण स्तर बहुत ज्यादा बढ़ जाता है तो स्वास्थ्य के लिए घातक हो जाता है, और तमाम तरह की स्वास्थ्य समस्याएं जैसे कि फेफड़ों में संक्रमण व आंख, नाक व गले में कई तरह की बीमारियों और ब्लड कैंसर जैसी तमाम घातक बीमारियों को जन्म देता है। अगर क्षेत्र में वायु प्रदूषण मानकों से ज्यादा है तो लोगों को मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए। जिससे कि वायु में मिले हुए घातक तत्वों और गैसों से काफी हद तक बचा जा सके। आज प्रदूषण को कम करने के लिए हमारी सरकारों को सम-विषम फॉर्मूला के अलावा अन्य कई उपाय करने पड़ेंगे। सम-विषम फॉर्मूला में बाइक और सिंगल महिला वाले वाहनों को भी शामिल करना होगा। साथ ही साथ नियमों को सख्ती से लागू करना होगा। अगर लोग देश में निजी वाहनों कि जगह सार्वजनिक वाहनों का प्रयोग करें तो सम-विषम जैसे फॉर्मूले कि जरूरत ही नहीं पड़ेगी और वायु प्रदूषण में भी कमीं आएगी, इसके लिए लोगों को खुद सोचना होगा। अगर कोई नियम तोड़ता है तो उस पर जुर्माने का प्रावधान हो। तभी देश में वायु प्रदूषण से निपटा जा सकता है। अगर देश में वायु प्रदूषण से जुडे हुये कानूनों का सख्ती से पालन हो तो वायु प्रदूषण जैसी समस्या से आसानी से निपटा जा सकता है। इससे पर्यावरण को भी सुरक्षित रखने में भी मदद मिलेगी।
आज यदि धरती के स्वरूप को गौर से देखा जाए तो साफ पता चल जाता है कि आज नदियां, पर्वत, समुद्र, पेड़ और भूमि तक लगातार क्षरण की अवस्था में हैं। और यह भी अब सबको स्पष्ट दिख रहा है कि आज कोई भी देश, कोई भी सरकार, कोई भी समाज इनके लिए उतना गंभीर नहीं है जितने की जरूरत है। बेशक लंदन की टेम्स नदी को साफ करके उसे पुनर्जीवन प्रदान करने जैसे प्रशंसनीय और अनुकरणीय प्रयास भी हो रहे हैं मगर यह ऊंट के मुंह में जीरे के समान हैं। ऐसे अनुकरणीय प्रयास भारत में भी हो सकते हैं जिसके द्वारा भारत की प्रदूषित नदियों को निर्मल और अविरल बनाया जा सकता है। चाहे वह गंगा नदी हो या यमुना नदी इस सबके लिए जरूरी है दृढ़ इच्छा शक्ति की जो कि भारतीय सरकार के साथ-साथ भारत के हर इंसान में होनी चाहिए। भारत में गंगा की स्वच्छता को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जल संसाधन और गंगा संरक्षण मंत्री उमा भारती ने प्रतिबद्धता जताई है। अब देखना होगा कि नमामि गंगे योजना धरातल पर कब तक उतर पाएगी। हालांकि जल संसाधन और गंगा संरक्षण मंत्री उमा भारती ने गंगा में सुखद परिणाम दिखाने की समयसीमा अक्टूबर 2018 तय की है। अब देखना होगा कि निर्धारित समयसीमा तक गंगा निर्मल हो पाती है या नहीं। आज जलवायु परिवर्तन, वैश्विक तापमान में वृद्धि के कारण पृथ्वी के ऊपर से हरा आवरण लगातार घटता जा रहा है जो पर्यावरणीय असंतुलन को जन्म दे रहा है।

पर्यावरणीय संतुलन के लिए वनों का संरक्षण और नदियों का अत्यंत महत्वपूर्ण है। अब समय आ गया है कि धरती को बचाने की मुहिम को इंसान को बचाने के मिशन के रूप में बदलना होगा क्योंकि मनुष्य और पर्यावरण का परस्पर गहरा संबंध है। पर्यावरण यदि प्रदूषित हुआ, तो इसका प्रभाव मनुष्य पर पड़ेगा और मनुष्य का स्वास्थ्य बिगड़ेगा और जनस्वास्थ्य को शत-प्रतिशत उपलब्ध कर सकना किसी भी प्रकार संभव न हो सकेगा। सभी जानते हैं कि इंसान बड़े-बड़े पर्वत नहीं खड़े कर सकता, बेशक चाह कर भी नए साफ समुद्र नहीं बनाए जा सकते और, किंतु यह प्रयास तो किया ही जा सकता है कि इन्हें दोबारा से जीवन प्रदान करने के लिए संजीदगी से प्रयास किया जाए। भारत में तो हाल और भी बुरा है। जिस देश को प्रकृति ने अपने हर अनमोल रत्न, पेड, जंगल, धूप, बारिश, नदी, पहाड़, उर्वर मिट्टी से नवाजा हो, और उसको मुकुट के सामान हिमालय पर्वत दिया हो और हार के समान गंगा, यमुना, नर्मदा जैसी नदियां दी हों यदि वो भी इसका महत्व न समझते हुए इसके नाश में लीन हो जाए तो इससे अधिक अफसोस की बात और क्या हो सकती है।
आज यह सब पर्यावरणीय समस्याएं विश्व के सामने मुंह बाए खड़ी हैं। विकास की अंधी दौड़ के पीछे मानव प्रकृति का नाश करने लगा है। सब कुछ पाने की लालसा में वह प्रकृति के नियमों को तोड़ने लगा है। प्रकृति तभी तक साथ देती है, जब तक उसके नियमों के मुताबिक उससे लिया जाए। इसके लिए सबसे सरल उपाय है कि पूरी धरती को हरा भरा कर दिया जाए। इतनी अधिक मात्रा में धरती पर पेड़ों को लगाया जाए कि धरती पर इंसान द्वारा किया जा रहा सारा विष वमन वे वृक्ष अपने भीतर सोख सकें और पर्यावरण को भी सबल बनने के उर्जा प्रदान कर सकें। क्या अच्छा हो यदि कुछ छोटे-छोटे कदम उठा कर लोगों को धरती के प्रति, पेड़ पौधे लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। बड़े-बड़े सम्मेलनों, आशावादी समझौतों आदि से अच्छा तो यह होगा कि इन उपायों पर काम किया जाए। लोगों को बताया समझाया और महसूस कराया जाए कि पेड़ बचेंगे, तो धरती बचेगी, धरती बचेगी, तो इंसान बचेगा। सरकार यदि ऐसे कुछ उपाय अपनाए तो परिणाम सुखद आएंगे।
आज विवाह, जन्मदिन, पार्टी और अन्य ऐसे समारोहों पर उपहार स्वरूप पौधों को देने की परंपरा शुरू की जाए। फिर चाहे वो पौधा, तुलसी का हो या गुलाब का, नीम का हो या गेंदे का। इससे कम से कम लोगों में पेड पौधों के प्रति एक लगाव की शुरूआत तो होगी। और लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता आएगी और ईको फ्रेंडली फैशन की भी शुरुआत होगी। और सभी शिक्षण संस्थानों, स्कूल कालेज आदि में विद्यार्थियों को, उनके प्रोजेक्ट के रूप में विद्यालय प्रांगण में, घर के आसपास, और अन्य परिसरों में पेड पौधों को लगाने का कार्य दिया जाए। यदि इन छोटे छोटे उपायों पर ही संजीदगी से काम किया जाए तो यह निःसंदेह कम से कम उन बडे-बडे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों से ज्यादा ही परिणामदायक होगा। और इससे अपने पर्यावरण और अपनी धरती को बचाने की दिशा में एक मजबूत पहल होगी। अब सोचना छोड़िए और खुद से कहिए कि चलो ज्यादा नहीं पर हम एक शुरुआत तो कर सकते हैं। सच पूछें तो पर्यावरण की सुरक्षा के लिए हमे कुछ ज्यादा करना भी नहीं है। सिर्फ एक पहल करनी है यानी खुद को एक मौका देना है। हमारी छोटी-छोटी, समझदारी भरी पहल पर्यावरण को बेहद साफ-सुथरा और तरो-ताजा कर सकती है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी
गुजरात में अरबपति परिवार से ताल्लुक रखने वाली और एमबीबीएस में गोल्ड मेडल हासिल कर चुकी ...

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा
अलबामा में एक कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर पहुंचने के लिए 30 किलोमीटर पैदल चल कर आया। बॉस को ...

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट
नई दिल्ली। रेलवे ने यात्रियों को एक बड़ी सौगात देते हुए उन ट्रेनों में 10% तक छूट देने का ...

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन
भारतीय जीवन बीमा निगम ने असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर्स के 700 पदों के लिए आवेदन ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के सारे फीचर्स...
अब महंगे स्मार्ट फोन का जमाना गया। अब मात्र 501 रुपए के फोन में आपको स्मार्ट फोन के सारे ...

दक्षिण पश्चिम मानसून राजस्थान, छत्तीसगढ़, पश्चिम ...

दक्षिण पश्चिम मानसून राजस्थान, छत्तीसगढ़, पश्चिम उत्तरप्रदेश में सक्रिय, हो सकती है भारी बारिश
नई दिल्ली। दक्षिण पश्चिम मानसून ओडिशा में प्रबल और झारखंड, पश्चिम उत्तरप्रदेश, हरियाणा, ...

नरेन्द्र मोदी अफ्रीकी महाद्‍वीप के दौरे पर, रवांडा जाने ...

नरेन्द्र मोदी अफ्रीकी महाद्‍वीप के दौरे पर, रवांडा जाने वाले पहले प्रधानमंत्री
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार से अफ्रीका महाद्वीप के तीन देशों के दौरे पर ...

भाजपा ने राहुल गांधी को ‘नॉन परफार्मिंग’ कांग्रेस अध्यक्ष ...

भाजपा ने राहुल गांधी को ‘नॉन परफार्मिंग’ कांग्रेस अध्यक्ष बताया
नई दिल्ली। भाजपा ने विपक्षी कांग्रेस पर चुटकी लेते हुए राहुल गांधी की अध्यक्षता में ...

मनिका बत्रा समेत सात टेबल टेनिस खिलाड़ियों को एयर इंडिया ने ...

मनिका बत्रा समेत सात टेबल टेनिस खिलाड़ियों को एयर इंडिया ने हवाई अड्डे पर छोड़ा
नई दिल्ली। मनिका बत्रा समेत सात टेबल टेनिस खिलाड़ियों को एयर इंडिया ने आज यहां के इंदिरा ...

आत्मघाती बम की भूमिका में आ रही है कांग्रेस : डॉ. संबित ...

आत्मघाती बम की भूमिका में आ रही है कांग्रेस : डॉ. संबित पात्रा
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में हुई ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत में लांच, 35 मिनट में होगा फुल चार्ज
ओप्पो ने अपना Oppo Find X भारत में लांच कर दिया है। इस फोन को सबसे पहले पेरिस में लांच ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ये दमदार फीचर्स
चीनी कंपनी Oppo भारत में एक से बढ़कर एक स्मार्ट फोन लांच कर रही है। अब ओप्पो नया फोन लांच ...

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन
नई दिल्ली। किफायती मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी एम टेक ने दो नए फीचर फोन रागा और वी 10 लॉच ...

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन, DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन,  DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल
मोबाइल कंपनियां रोज नई टेक्नोलॉजी ला रही हैं। अब मोबाइल का इस्तेमाल बातें करने के लिए ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये बेहतरीन फीचर्स
स्पाइस की भारत के स्मार्टफोन मार्केट में एक अलग पहचान है। स्पाइस ने अपना नया स्मार्ट फोन ...