ईशा गुप्ता : सीक्वल्स से चमकेंगी

ईशा गुप्ता के पास जन्नत 2, राज 3 जैसे सीक्वल्स हैं और शायद वे इन सीक्वल्स के जरिये ही चमकेंगी। ईशा किंगफिशर गर्ल भी रही हैं।

Widgets Magazine

फिल्में एक रात की...!

कहानी रात शुरू होते शुरू होती है और सुबह होते-होते क्लायमेक्स...। ये सही है कि इस तरह की सारी फिल्मों का कथानक आम कथानक से अलग होता है, कुछ में ...

छोटे पर्दे पर कुछ नए का इंतजार

कला फिल्म हो, अपराध की पृष्ठभूमि हो या फिर कोई ऐतिहासिक घटना पर आधारित फिल्म हो, बॉलीवुड की हीरोइनें सभी में रुचि से और कुछ नया करने की मंशा से ...

सिल्वर स्क्रीन की शान बने अंडरवर्ल्ड और एनकाउंटर

आने वाले दिनों में 'वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई-2' (मिलन लुथारिया, एकता कपूर), 'गैंग ऑफ वासीपुर' (अनुराग कश्यप), 'जन्नत-2' (कुणाल देशमुख, महेश ...

आनंद मरते नहीं...!

मौत के पल-पल करीब आने के अनुभव को जिंदादिली से जीने का नाम है 'आनंद'। हृषिकेश मुखर्जी द्वारा 1971 में निर्मित यह फिल्म क्लासिक का दर्जा पा चुकी ...

शगुफ्ता रफीक : वो कड़वे लम्हे अब रूपहले पर्दे की ...

शगुफ्ता रफीक... एक ग्लैमरस जिंदगी जीने वाली लड़की, जिसके रास्ते में आए एक हादसे ने न केवल जीने के सहारे पर प्रश्नचिह्न खड़ा किया बल्कि तमाम ...

सोनम कपूर : फ्लॉप फिल्मों के शानदार अनुभव!

बॉलीवुड में सोनम कपूर की चर्चा जितनी फिल्मों में अभिनय को लेकर नहीं होती उससे कहीं अधिक 'सोना बेबी' अपने बयानों और 'फैशन सेंस' को लेकर चर्चित ...

असल जिंदगी में एक्टिंग करूँ तो पागल हो जाऊँगा! : ...

मात्र दो फिल्म पुराने रणवीरसिंह को अचानक मीडिया में शाहरुख खान के बाद हिन्दी सिनेमा की सबसे बड़ी खोज कहा जाने लगा है, जबकि न तो वे हीरो के ...

बदली-बदली-सी फिल्में नजर आती हैं!

अगर सिंगल स्क्रीन थिएटर के दर्शकों को आकर्षित करना है तो उनके लिए 'बॉडीगार्ड' है और अगर मल्टीप्लेक्स में दर्शक बुलाने हैं तो फिर 'आईएम' है। हद ...

अंगूर : 'बहादुर... गैंऽऽऽग...!'

'अंगूर' की बात निराली है। दो-दो कलाकारों का डबल रोल और दोनों का यादगार अभिनय। कसावट भरी पटकथा में कहीं कोई भटकाव नहीं। कॉमेडी के नाम पर न कोई ...

मल्टीस्टारर फिल्में यानी सितारों का थोक बाजार

जिस गति से हमारी इंडस्ट्री में बनने वाली फिल्मों की संख्या और उनके बजट बढ़ रहे हैं, उसी गति से मल्टीस्टारर फिल्मों में सितारों की भीड़ भी बढ़ती जा ...

प्यासा : ये दुनिया अगर मिल भी जाए...

'प्यासा' का गीतमय क्लाइमेक्स कथा कथन, अभिनय और फोटोग्राफी की उत्कृष्टता का संगम है। साथ ही बेहतरीन गीत, संगीत और गायन तथा इस सबके ऊपर अद्‌भुत ...

दीपिका पादुकोण : सुपर हीरो हों आमिर तो मैं हीरोइन ...

दीपिका पादुकोण आज भी खुद को एक न्यूकमर ही मानती हैं, क्योंकि उनके अनुसार- जिस दिन आपने ये सोच लिया कि आपको सबकुछ आता है, उस दिन के बाद न तो आप ...

रितिक रोशन : स्कूल में ही छोड़ दिया लड़ाई-झगड़ा करना

रोशन खानदान का नाम रोशन करने वाले सितारों की फेहरिस्त में रितिक रोशन का नाम अव्वल दर्जे पर अंकित हो गया है। अभिनय के मामले में रितिक अपने पप्पा ...

गैंगस्टर, जोकर, राउडी बन बैठा खिलाड़ी!

करियर की शुरुआत में अक्षय कुमार ने बहुत-सी एक्शन फिल्में की किंतु आज उनकी इमेज सभी तरह के किरदार बखूबी निभा लेने वाले अभिनेता की है। अक्षय ने ...

क्या लौट आएगा फिल्मी मुजरों का दौर?

"एजेंट विनोद" में करीना कपूर का मुजरा एक बार फिर दर्शकों को पुराने दौर में ले जा रहा है। वैसे भी हिन्दी फिल्मों में मुजरा अब गायब-सा हो गया है, ...

बॉलीवुड : न धर्म की सीमा न जात का बंधन...!

चाहे पंडित-मुल्ला कुछ भी कहें सलमान खान अपने घर में गणपति बैठाते हैं और बाकायदा पूरे अनुष्ठान के साथ उनकी खातिरदारी करते हैं। वे ईद भी मनाते हैं ...

चुपके-चुपके : ऋषिकेश मुखर्जी की सदाबहार फिल्म

ऋषिकेश मुखर्जी की 'चुपके-चुपके' (1975) हर उस सूची में शामिल होती है जो हिन्दी सिनेमा की श्रेष्ठतम कॉमेडी फिल्मों को गिनाने के लिए बनाई जाती है। ...

अमृता पुरी : ब्लड मनी की हीरोइन

अमृता पुरी ब्लड मनी में कुणाल खेमू की हीरोइन हैं। इसके पहले वे आयशा फिल्म में सह अभिनेत्री रह चुकी हैं। वैसे भी बकौल अमृता रोल चुनने के मामले ...

Widgets Magazine

जरूर पढ़ें

किल/दिल : फिल्म समीक्षा

किल/दिल में अभिनय, संवाद, संगीत पर मेहनत की गई है, लेकिन लेखन विभाग की कमजोरी फिल्म पर भारी पड़ी

सनी लियोन की फिल्म 'कुछ कुछ लोचा है'

सनी लियोन और राम कपूर एक फिल्म साथ कर रहे हैं जिसका नाम 'पटेल रैप' था। बदलकर अब इसे 'कुछ कुछ लोचा ...

न्यूड सीन के कारण माधुरी ने ठुकराई थी फिल्म

वर्षों पूर्व शाजी एन. करूण को राजा रवि वर्मा पर फिल्म बनाने का विचार आया था। रवि वर्मा के रूप में ...

Widgets Magazine

नवीनतम

मजेदार चुटकुला : प्रेम में परिवर्तन!

प्रेमिका (प्रेमी से) - सामने खिड़की में जो तोता-मैना बैठे हैं, दोनों रोज यहां आते हैं। साथ-साथ बैठते ...

चटपटा चुटकुला : मॉडल उपलब्ध हैं...

एक बार एक मैरिज ब्यूरो ने पेपर में विज्ञापन छपवाया। जो इस प्रकार था कि - 'विवाह के लिए ...

Widgets Magazine