सिद्धियां प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल करें ये जड़ी-बूटियां

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
यह देखा गया है कि बहुत से साधु शारीरिक और मानसिक हलचल को रोककर ध्यान लगाने के लिए तरह-तरह की औषधि और जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल करते हैं। यह भी देखा गया है कि कुछ कथित साधु इसके लिए भांग, गांजा, चरस आदि नशे के पदार्थों का सेवन भी करते हैं, लेकिन धर्म में यह सब वर्जित माना गया है। आधुनियुमेलोसंगीइस्तेमाकरते हैं।
हालांकि यह सच है कि ध्यान की सफलता के लिए साधु-संत जड़ी बूटियों का इस्तेमाल करते रहे हैं। यह ऐसी जड़ी-बूटियां हैं जिनके माध्यम से सिद्धियां भी प्राप्त की जा सकती है। सभी का इस्तेमाल मानसिक शांति और स्थिरता के लिए किया जाता रहा है। इन जड़ी-बूटियों से थकान, खबराहट, बैचेनी, मानसिक अशांति और शारीरिक रोग दूर हो जाते हैं। > आयुर्वेद के पुराने ग्रंथ चरक संहिता के अनुसार जड़ी बूटियों से हमारी याद करने की क्षमता और सीखने की क्षमता बढ़ती है जिससे ध्यान में भी मदद मिलती है।> इन जड़ी-बूटियों का उल्लेख योग, आयुर्वेद और ध्यान की किताबों में मिलता है। माना जाता रहा है कि सोमरस भी इसी के लिए इस्तेमाल किया जाता था। आप कोई भी जड़ी-बूटी चुन सकते हैं और फिर जड़ी-बूटियों का काम्बिनेशन में उपयोग कर सकते हैं क्योंकि जड़ी बूटियों के प्रभाव हमेशा सिनर्जेस्टिक होते हैं। हालांकि इसका विशेष ध्यान रखें कि जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह अनुसार की किया जाना चाहिए। क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक क्षमता और तासीर अलग-अलग होती है।

 

आओ जानते हैं कि वे कौन-कौन सी जड़ी बूटियां हैं...

 


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :