क्या ओवल में भारत टेस्ट इतिहास की दूसरी जीत का स्वाद चख पाएगा?

अतुल शर्मा|
केनिंगटन में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जाने वाला पांचवा टेस्ट मैच भारतीय टीम के लिए किसी ऐतिहासीक टेस्ट मैच से कम नहीं रहेंगा। इस मैदान पर टीम इंडिया इंग्लैंड के खिलाफ अपना 13वां मैच खेलेंगी, जो 7 से 11 सितम्बर को खेला जाना हैं।

उल्लेखनीय है कि पांच टेस्ट मैचो की सीरीज में इंग्लैंड ने 3-1 से सीरीज को अपने नाम कर लिया है। ओवल के मैदान पर होने वाले अंतिम मैच में इंग्लैंड जीत के इरादे से उतरेगी। टीम अभी अच्छी फॉर्म ने चल रही है सभी खिलाड़ियों में भरपूर जोश भरा पड़ा है। एैसे में भारतीय टीम को जीतने के लिए एड़ी से चोटी तक का जोर लगाना पड़ सकता हैं।

भारतीय टीम के लिए इंग्लैंड दौरा किसी 'ग्रहण' से कम नहीं रहा, विदेशी सरजमी पर भारतीय खिलाड़ियों ने अपने घुटने टेक दिए और एक बार फिर से यह साबित कर दिया कि टीम अपने घर में ही 'शेर' है और बाहर मिट्टी के 'ढेर' हैं। इस पूरी सीरीज में टीम इंडिया से ऐसा एक भी खिलाड़ी उभरकर नजर नहीं आया, जो हार की गर्त से निकाल सके।

भारतीय टीम का केनिंगटन ओवल से नाता : भारतीय टीम इस मैदान पर अब तक 12 टेस्ट मैच खेल चुकी है, जिसमें 1 मैच भारत जीता, 4 मैच हारे और 7 टेस्ट मैच ड्रॉ रहे। भारत में 1971 में अपना पहला एकमात्र टेस्ट मैच इंग्लैंड से उस समय जीता, जब भारतीय टीम की कप्तानी अजीत वाडेकर कर रहे थे। इस मैच की खास बात यह रही थी कि तब टेस्ट मैच 6 दिनों का हुआ करता था।
ओवल के मैदान पर इतिहास के आइने में भारत-इंग्लैंड

* 1936 में इंग्लैंड 9 विकेट से जीता

* 1946, 1952 के दोनों टेस्ट मैच ड्रॉ रहे

* 1959 में इंग्लैंड पारी व 27 रनों से जीता

* 1971 में भारत 4 विकेट से जीता

* 1979, 1982, 1990, 2002, और 2007 तक के सभी टेस्ट मैच ड्रॉ रहे

* 2012 में इंग्लैंड पारी व 8 रनों से जीता

* 2014 में इंग्लैंड पारी व 244 रनों से जीता

* 2018 में क्या होगा इसका इंतजार रहेगा...


और भी पढ़ें :