Widgets Magazine

जी कुत्ता से - ऑनर किलिंग पर हार्ड हिटिंग सोशल ड्रामा


राहुल दाहिया की पहली फीचर फिल्म 'जी कुत्ता से' 9 जून को रिलीज होगी। इस फिल्म का शिकागो साउथ एशियन फिल्म महोत्सव में विश्व प्रीमियर हुआ और न्यू यॉर्क इंडियन फिल्म फेस्टिवल 2016 और 17 वें जियो मामी मुंबई फिल्म महोत्सव में भी इसका आधिकारिक चयन किया गया था। यह फिल्म 2016 के यस फाउंडेशन सोशल इंपैक्ट अवार्ड्स के लिए भी नामित हुई थी।
 
"जी कुत्ता से" भारत में ऑनर किलिंग के विवादास्पद विषय पर एक साहसिक और बोल्ड प्रयास है। इसमे एक टैबू विषय को यथार्थवाद के लैंस के माध्यम से ताज़गी भरी नज़र और अलग दृष्टि से देखा गया है। अब तक इस विषय पर जो भी फिल्में बनी है उनसे यह अलग है।
 
हरियाणा में सेट इस फिल्म को हिंदी और हरियाणवी भाषा के मिश्रण में फिल्माया गया है। हरियाणा के रहने वाले लेखक-निर्देशक राहुल दाहिया ने अपने स्वयं के व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर फिल्म को तैयार किया है। 
 
वे कहते हैं, "हर साल हजारों लड़कियों को अपने परिवारों द्वारा, कभी-कभी अपनी मां, पिता या भाइयों द्वारा मार दिया जाता है। कारण हमेशा परिवार के" सम्मान "से जुड़ा नहीं होता जैसा कि व्यापक धारणा है, बल्कि अक्सर ईर्ष्या, यौन प्रतिशोध, अहंकार और शक्ति का एक इंटरप्ले होता है। मैंने इस फिल्म को सेक्स के आसपास के पाखंड और हमारे तथाकथित समृद्ध गांवों में उग्र क्रूरता का पर्दाफाश करने के लिए बनाया है। "
 
दाहिया ने पहले सुधीर मिश्रा की फिल्म खोया खोया चांद, तेरा क्या होगा जॉनी और "और देवदास" के सहायक के रूप में काम किया है। फ़िल्म को यथार्थवाद की भावना देने के लिए उस क्षेत्र से कई गैर-पेशेवर कलाकारों का उपयोग करके वास्तविक स्थानों पर शूटिंग की गई है।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine