मेरी दो फिल्मों ने पांच सौ करोड़ रुपये का व्यवसाय किया

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख सिंह अपनी फिल्मों के कारण भी चर्चा में रहते हैं। वर्ष 2015 से उन्होंने फिल्मों में कदम रखा और अब उनकी चौथी फिल्म 'हिंद का नापाक को जवाब- एमएसजी लॉयन हॉर्ट 2' प्रदर्शित होने जा रही है। इस फिल्म का अभिनय, निर्देशन, कोरियोग्राफी, एडिटिंग, संगीत सहित कई विभागों में उन्होंने काम किया है और यह एक रिकॉर्ड है। पेश है गुरमीत राम रहीम से बातचीत। 
 
आप एक ओर अध्यात्म से जुड़े हैं तो दूसरी ओर फिल्मों से भी जिसे ग्लैमर वर्ल्ड कहा जाता है। दोनों दुनिया एक-दूसरे से काफी अलग है। आखिर फिल्मों से जुड़ने के पीछे क्या कारण रहे हैं? 
मैंने महसूस किया है कि तीन घंटे के सत्संग में इतने युवा नहीं आते हैं जितना की तीन घंटे की फिल्म देखने के लिए आते हैं। मैं युवाओं को अपने से जोड़ना चाहता था। फिल्म इसके लिए बेहतरीन माध्यम है। संदेश कड़वा लगता है, लेकिन फिल्मों में सुगर कोटेड कर यह बताया जाए तो युवाओं को पसंद आता है। परिणाम भी अच्छा रहा है। फिल्म करने के बाद मुझसे लाखों की तादाद में युवा जुड़े हैं। 
 
'हिंद का नापाक को जवाब- एमएसजी लॉयन हॉर्ट 2' के जरिये आप क्या संदेश दे रहे हैं? 
यह फिल्म सर्जिकल स्ट्राइक पर आधारित है। फिल्म के जरिये हम बताना चाहते हैं कि यदि वे हमला करेंगे, हमारे जवानों को मारेंगे तो हम भी जवाब देंगे। यह देशभक्ति की फिल्म है। फिल्म में यह भी संदेश दिया गया है कि बेटियां अबला नहीं, सबला हैं।
 
क्या आपने इस विषय पर रिसर्च किया है? 
जी हां। हमने जाना है कि जंगलों में किस तरह से जवान अपना काम करते हैं। किस तरह के रास्ते होते हैं। क्या मुश्किलें आती हैं। वे किस तरह से योजना बना कर अपना काम करते हैं। 
 
क्या आप मानते हैं कि फिल्मों के जरिये समाज में बदलाव लाया जा सकता है? 
बिलकुल। अभी इस फिल्म के सिलसिले में मैंने कई वीडियो कांफ्रेंसिंग की। हर जगह देखा कि तिरंगे लहरा रहे थे। भारत की जय-जयकार हो रही थी। 
 
फिल्म में आप अभिनय, निर्देशन, संगीत, लेखन, संपादन आदि करते हैं? ये कैसे संभव है? 
सेट पर मैं हीरो के रूप में जाता हूं। फिर मैं कैमरे और लाइट की सेटिंग करवाता हूं। जैकी चेन ने तो 15 तरह के काम फिल्म में किए थे। मैंने तो उनका रिकॉर्ड भी तोड़ दिया। 
 
क्या आपने संगीत, एडिटिंग आदि सीखी है? 
नहीं। 
 
तो फिर कैसे कर लेते हैं? 
सब ईश्वर की देन है। 
>
>  
क्या आप बॉक्स ऑफिस का ध्यान रखते हैं?
कंपनी रखती है। मुझे बताया गया कि मेरी दूसरी और तीसरी फिल्म ने चार सौ से पांच सौ करोड़ रुपये का व्यवसाय किया था। 
 
आप संत हैं। परदे पर आप रोमांस/एक्शन आदि करते हैं। क्या छवि की चिंता सताती है?
नहीं। हम कुछ गलत नहीं दिखाते। हमें अपनी संस्कृति से प्यार है। हम प्यार के खिलाफ नहीं है। प्यार के नाम पर जो वहशीपन दिखाया जाता है हम उसके खिलाफ हैं। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :