सलमान की ट्यूबलाइट हुई फ्लॉप... इतने करोड़ का होगा नुकसान

हर अच्छी चीज का अंत होता ही है। सलमान और ईद का जोड़ कुछ दिन पहले तक सफलता की गारंटी माना जाता था। पिछली सात ईदों में से 6 ईदों पर सलमान की फिल्में (दबंग, बॉडीगार्ड, एक था टाइगर, किक, बजरंगी भाईजान, सुल्तान) प्रदर्शित हुईं और सभी सफल रहीं। जिन फिल्मों की क्रिटिक्स ने धज्जियां उड़ाई थीं उसका कोई असर सलमान की फिल्मों पर नहीं हुआ। लेकिन 'ट्यूबलाइट' ने सलमान-ईद-सफलता के कॉम्बिनेशन को तोड़ दिया। चार दिनों के कलेक्शन के आधार पर फिल्म उद्योग ने इसे 'फ्लॉप' मान लिया है। कुछ ने तो पहले दो दिन के कलेक्शन देख कर ही यह बात बोल दी थी, लेकिन कुछ लोग उम्मीद लगाए बैठे थे कि ईद से हालात सुधर जाएंगे। ईद के दिन फिल्म मात्र 19 करोड़ रुपये का कलेक्शन ही कर पाई और यह साफ हो गया कि फ्यूज हो गई।

सात साल में सलमान की सबसे बड़ी फ्लॉप
पिछले सात वर्षों में यह सलमान की सबसे बड़ी है। इसके पहले उनकी 'वीर' नामक फिल्म 2010 में पर धराशायी हो गई थी। 'जय हो' भी जरूर कमजोर रही थी, लेकिन इसका प्रदर्शन औसत माना गया था। जबकि 'ट्यूबलाइट' से वितरकों को घाटा होगा।

फायदे में सलमान-कबीर
ने रिलीज के पूर्व 132 करोड़ रुपये भारत में थिएट्रिकल राइट्स बेच कर, 20 करोड़ म्युजिक राइट्स बेच कर और अन्य अधिकार जिसमें सैटेलाइट और इंटरनेट राइट्स शामिल हैं करीब 210 करोड़ रुपये जमा कर लिए थे। यह फिल्म सलमान और कबीर खान ने मिल कर बनाई है और निश्चित रूप से सलमान का हिस्सा ज्यादा है। सलमान और कबीर तो फायदे में रहे, लेकिन वितरकों को घाटा होगा।
150 करोड़ भी मुश्किल
वितरक बहुत बड़ी उम्मीद लगाए बैठे थे। उनका मानना था कि यह फिल्म 300 करोड़ का आंकड़ा आसानी से पार कर लेगी और उन्हें लागत से ज्यादा मिल जाएंगे। घाटे की तो कोई सोच भी नहीं रहा था। 250 करोड़ रुपये का आंकड़ा यदि यह फिल्म भारत से प्राप्त करती है तो ही वितरक की लागत वसूल हो पाएगी। फिल्म ने चार दिनों में जिस तरह का प्रदर्शन किया है उसे देखते हुए अब 150 करोड़ रुपये का आंकड़ा भी मुश्किल हो गया है।

कितना होगा घाटा
चार दिनों में यह फिल्म मात्र 83.86 करोड़ रुपये ही एकत्रित कर पाई। रविवार और ईद की छुट्टियां होने के बावजूद किसी भी दिन फिल्म 25 करोड़ का आंकड़ा भी नहीं छू पाई जिससे साफ हो गया कि इस फिल्म में दर्शकों को कोई रूचि नहीं है। आने वाले दिन इस फिल्म के लिए बिलकुल भी अच्छे नहीं कहे जा सकते। जिस तरह से फिल्म प्रदर्शन कर रही है उसे देखते हुए ज्यादा से ज्यादा यह फिल्म 140 करोड़ रुपये का लाइफ टाइम बिजनेस कर सकती है। यदि यहां फिल्म रूक जाती है तो 55 से 60 करोड़ रुपये का घाटा वितरकों को होगा। किसी वितरक को ज्यादा तो किसी को कम। किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि सलमान की फिल्म से वे हाथ जला बैठेंगे। तभी तो फिल्म व्यवसाय को अत्यधिक जोखिम वाला और अनिश्चित कहा जाता है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :