5 फिल्में लाइन से फ्लॉप... बॉक्स ऑफिस पर सैफ हुए अनसेफ!

की हालिया फिल्म 'रंगून' बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह फ्लॉप रही है। लगभग 50 करोड़ का नुकसान फिल्म से हुआ है। यह एक महंगे बजट की फिल्म थी और बेहद खराब ओपनिंग फिल्म को मिली। सैफ के साथ शाहिद और कंगना रनौट भी मिलकर फिल्म को बचा नहीं पाए। न ही विशाल भारद्वाज का नाम काम आया। इस फिल्म के बॉक्स ऑफिस परिणाम से सैफ के खिलाफ माहौल बन गया है। उन्हें अनसेफ माना जा रहा है और चर्चा हो रही है कि सैफ अली खान का करियर खत्म हो गया है। 
सैफ की पांच फिल्में लगातार फ्लॉप हुई हैं और ये सभी इतनी बुरी तरह पिटी है कि फिल्म इंडस्ट्री को जबरदस्त धक्का लगा है। शुरुआत बुलेट राजा से हुई। सैफ ने इस फिल्म में अपनी इमेज से हट कर काम किया। उनका देशी अवतार पसंद नहीं किया गया। तिग्मांशु धुलिया जैसा निर्देशक भी फिल्म को बचा नहीं पाया। 
 
'हमशकल्स' में सैफ कॉमेडी करते हुए असहज नजर आए और फिल्म को ले डूबे। बाद में उन्होंने इस फिल्म में काम करने के लिए अफसोस भी जताया।  'हैप्पी एंडिंग' कब आई और कब गई पता ही नहीं चला। 'फैंटम' से कबीर खान जैसा निर्देशक जुड़ा था। जिस कबीर ने एक था टाइगर और बजरंगी भाईजान जैसी ब्लॉकबस्टर मूवीज़ बनाई है वे भी सैफ का साथ पाते ही फ्लॉप हो गए। फिल्म का विषय अच्छा था। 
 
कबीर ने फिल्म की ठीक-ठाक बनाई थी, लेकिन सैफ का गिरता स्टारडम आड़े आ गया और फिल्म पिट गई। इस फिल्म के बाद सैफ का करियर ठहर सा गया। उन्होंने छोटा ब्रेक भी लिया ताकि करियर को लेकर सोच-विचार कर सकें। 
 
इसी बीच 'रंगून' का ऑफर आ गया जिसे विशाल भारद्वाज ने बनाया है। विशाल के साथ सैफ ने 'ओंकारा' नामक फिल्म की थी जिसमें उनकी इमेज से हट कर सैफ को रोल दिया गया था। अभिनय की दृष्टि से 'ओंकारा' सैफ के करियर की बेहतरीन फिल्मों में गिनी जाती है।
 
इतनी बुरी तरह पिटी की फिल्म इंडस्ट्री हिल गई। पहले ही दिन कुछ शहरों में दर्शकों के अभाव शो कैंसल होने की खबरें आईं। फिल्म की ओपनिंग बेहद खराब रही। जब ओपनिंग खराब होती है तो दोष स्टार्स को दिया जाता है क्योंकि भीड़ खींचना उनका काम है। सैफ अब चुके हुए सितारे माने जा रहे हैं। उनके नाम पर दर्शक खींचे नही चले आते। रंगून की असफलता के बाद माना जा रहा है कि सैफ अली खान का बतौर हीरो करियर लगभग खत्म हो गया है। 
 
वैसे सैफ कभी भी दमदार सितारे नहीं माने गए। सोलो हीरो के रूप में उन्होंने बहुत कम सफल फिल्में दी हैं। मल्टीस्टारर फिल्मों के जरिये वे सफलता हासिल करते रहे। उन्हें शहरी किरदारों में ही पसंद किया गया और जब भी उन्होंने कुछ अलग करने की कोशिश की नाकामयाबी मिली। 
 
संभव है कि सैफ अपने आपको दौड़ में बनाए रखने के लिए खुद ही कुछ फिल्मों का निर्माण करें। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :