देव आनंद – अफलातून अभिनेता

आजाद भारत को तोहफे में अभिनेताओं की जो त्रिमूर्ति प्राप्त हुई, उनमें ब्रह्मा-विष्णु-महेश कौन है, यह तय करना मुश्किल है, लेकिन तीनों ने अपने ढंग के विशिष्ट सिनेमा की रचना कर भारतीय फिल्मों को कलागत और वैचारिक रूप से समृद्ध बनाया। उन्होंने न सिर्फ दर्शकों का मनोरंजन किया, अपितु भारतीय समाज और खासकर युवाओं की जीवनशैली को प्रभावित किया। तीनों ने अपने दर्शकों के दिलों में इतनी जगह बनाई कि दिलीप-राज-देव के समर्थक दर्शकों के अपने-अपने वर्ग हो गए थे। ने अपने जीवन का तीन-चौथाई हिस्सा फिल्मों को समर्पित किया और उम्र के अंतिम दौर तक वे फिल्मों से सक्रिय रूप से जुड़े रहे। 
अभिनय के तीन स्कूल त्रिमूर्ति की एक मूर्ति ने फिल्मों का शतक पार किया है। दिलीपकुमार ने कुल 54 फिल्में कीं, जबकि देव आनंद के ही समान निर्माता निर्देशक रहे राजकपूर ने जून 1988 में अपने निधन तक कुल 66 फिल्में की थीं, जिनमें से 8 फिल्मों में उन्होंने अभिनय नहीं किया था। अपने जीवनकाल में लीजैण्ड बनने वाले इन फिल्मकारों ने देश को तीन विशिष्ट शैलियाँ दीं।> > और उनके अभिनय के स्कूल चल पड़े अगली पीढ़ी के अभिनेताओं ने बड़े चाव से इनके अभिनय की स्टाइल और मैनरिज्म को अपनाया। जबकि इन अँग्रेजों ने हॉलीवुड के कलाकारों को देखकर अभिनय की अपनी शैलियों को स्वयं विकसित किया था।

दिलीप कुमार के अभिनय का उज्ज्वल पक्ष निराश प्रेमी की भूमिका को शिद्दत से साकार करना था। राजकपूर ने भले और भोले आदमी की छवि को भुनाया, तो देव आनंद ने बने-ठने, सजीले, जल्दी-जल्दी बोलने वाले स्मार्ट युवक के किरदार को अपनाना पसंद किया।

देव आनंद को जीवन से बहुत प्यार रहा है और वे आशावादी सिनेमा के पक्षधर थे, इसलिए अपने चाहते उन्होंने उदासीनता भरी भूमिकाओं से सदैव परहेज किया। कैरियर के आरंभ 1949 में वे निर्माता बन गए थे और 1970 में फिल्म 'प्रेम पुजारी' से निर्देशक बने।

उन्होंने अपने बड़े भाई चेतन आनंद और अनुज गोल्डी उर्फ विजय आनंद को फिल्मों में आगे बढ़ाया, क्योंकि वे सचमुच प्रतिभाशाली थे। गांगुली बंधुओं (अशोक, किशोर, और अनूप कुमार) की तरह आनंद बंधुओं ने भी फिल्मी दुनिया में प्रतिष्ठाजनक स्थान बनाया है।

देव आनंद एक बार अपने कैमरे को स्टूडियो से बाहर क्या लाए, वे पुरी तरह घुमक्कड़ फिल्मकार बन गए। देशभर में घूमते-घूमते वे हिमालय तक जा पहुँचे। ‍नेपाल के शाही परिवार से मित्रता के कारण कुछ फिल्में उन्होंने वहाँ भी बनाईं। फिल्मों के लिए नई-नई लोकेशन चुनते-चुनते वे अंतरराष्ट्रीय हो गए थे।

निर्माता की हैसियत से देव आनंद ने फिल्म इंडस्ट्री को कई निर्देशक दिए। चेतन और विजय आनंद के अलावा राज खोसला, अमरजीत/मंडी बर्मन ही नहीं महान निर्माता-निर्देशक-अभिनेता गुरुदत्त को भी देव आनंद ने ही निर्देशक के रूप में पेश किया था।

शम्मी कपूर को देव आनंद का एक्सटेंशन (विस्तार) कहा जा सकता है। जैकी श्रॉफ ने तो खुद को देव की शैली में ढाला है। वे देव आनंद के पुत्र सुनील के मित्र थे। उन्हें बुजुर्ग स्टार ने 'स्वामी दादा' (1982) में छोटा-सा रोल दिया था, क्योंकि वे अगली फिल्म में बड़े रोल तक रुकने को राजी नहीं थे। आमिर खान की‍ गिनती भी देव शैली के अभिनेताओं में की जाती है।

अफलातून अभिनेता
देव आनंद को हम अच्छे सेंस में एक 'अफलातून' अभिनेता कह सकते हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि 'मैं सोचने-विचारने से संबंध रखने वाले परिवार से आया हूँ।' उन्हें अपने पिता की विद्वत्ता पर सदा नाज रहा। अपने निर्देशक भाइयों की सूझबूझ और कल्पनाशीलता से वे अभिभूत रहे। अँगरेजी साहित्य में बीए ऑनर्स करना भी उन्हें विशिष्टता दे गया।

आरंभिक फिल्मों में धोती-कुर्ता पहनकर पेश हुए देव आनंद ने विलायती बाना धारण कर लिया और अपनी रंगीन तबीयत के अनुकूल गले में स्कार्फ बाँधना शुरू किया। वे शर्ट की सबसे ऊपर वाली बटन तक बंद रखते हैं। अपनी कई फिल्मों में कई तरह की हेट का फैशन उन्होंने चलाया। अब देव आनंद की पोशाक आम भारतीय की पोशाक है। देव आनंद ने राजनीति में थोड़ी दिलचस्पी दिखाई थी। शुरू में वे कांग्रेस समर्थक थे। आपातकाल के बाद कांग्रेस से उनका मोहभंग हो गया।

कुछ अपवादों को छोड़कर लगभग सभी समकालीन अभिनेत्रियों के साथ देव आनंद ने काम किया, उनमें कुछ अभिनेत्रियाँ तो ऐसी थीं जो दिलीप-राज-देव तीनों के साथ समान रूप से आईं। जैसे वैजयंतीमाला, नर्गिस, मीना कुमारी, मधुबाला, गीताबाली, वहीदा रहमान। देव आनंद ने निर्माता होने के नाते राज कपूर से अधिक नई तारिकाओं को पेश किया।

पिछले ‍चार दशकों में उन्होंने कई लड़कियों को ब्रेक दिया था, जिनमें जीनत अमान और टीना मुनीम भी शामिल हैं। ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी राज कपूर के साथ 1968 में फिल्म 'सपनों का सौदागर' में पहली बार परदे पर आई। लेकिन सबसे ज्यादा नौ फिल्में उन्होंने देव आनंद के साथ कीं। अपनी पत्नी कल्पना कार्तिक के अलावा देव आनंद ने सुरैया/गीता बाली/वहीदा रहमान और जीनत अमान के साथ आधा दर्जन से अधिक फिल्में कीं। अर्थात इन अभिनेत्रियों के साथ देव आनंद की जोड़ी को खूब पसंद किया गया।

कॉलेज से जनरल तड़ी
देव आनंद की ख्यासति यह है कि उपलब्ध अभिनेताओं में वे सबसे ज्यादा सुंदर थे और नियमित जीवनशैली के कारण उनकी सदाबहार जवानी ने उन्हें सदाबहार महानायक बनाए रखा। वे रुपहले पर्दे के सुनहरे नायक थे। उनका रूप-यौवन देखकर तो शायद कामदेव भी शरमा जाते। लड़के-लड़कियों ने स्कूल-कॉलेज से तड़ी मारकर मेटिनी शो में देव आनंद की फिल्में खूब देखी थीं।

अपने ‍प्रति दीवानगी के इस आलम के बावजूद देव आनंद सद्गृ-हस्थ बने रहे। वे सदैव झक्की की तरह अपने काम में लगे रहे। यह सवाल देव आनंद से कई मर्तबा पूछा गया कि आप इतने लंबे समय तक तरुण बने रहे, इसका राज क्या है। उनकी तरुणाई कायम रखने का अगर कोई रहस्य होता, तो वे बताते। ईश्वर प्रदत्त इस तरुणाई के कारण ही लंबे समय तक देव आनंद को नायक के रूप में स्वीकार किया गया।

लेकिन यह सत्य है कि अस्सी के बाद, यानी आज के अमिताभ बच्चन की उम्र में नायक के रूप में उन्हें सराहा नहीं गया। लेकिन महत्वपूर्ण यह है कि उन्होंने अपना काम जारी रखा। स्वर्गीय अशोक कुमार ने पचास के होते-होते चरित्र अभिनेता बनना शुरू कर दिया, लेकिन देव आनंद ने साठ के बाद भी ऐसा करना मुनासिब नहीं समझा। उन्होंने 'लोग क्या कहते हैं' इस बात की फिक्र किए बगैर अपनी दैहिक इमारत को बुलंद बनाए रखा।

फिल्म हम दोनों में उन्होंने गाया था - हर फिक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया, लेकिन धूम्रपान उतना ही किया, जितना अभिनय के लिए आवश्यक था। शराब को दवा की तरह पिया, सिर्फ एक जाम और वह भी पार्टी में भाग लेने वालों का मान रखने के लिए।

कौन नहीं जानता कि कुंदनलाल सहगल, गुरुदत्त, राज कपूर, संजीव कुमार खानपान की ज्यादतियों के कारण वक्त से पहले चले गए। दिलीप और देव, दादामुनि के पटु शिष्य होने के नाते स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहे। देव आनंद ने अभिनय का ककहरा पुणे की प्रभात फिल्म कंपनी में सीखा था, जहाँ वे अभिनेता के रूप में पसंद किए गए थे, लेकिन उनका अगला पड़ाव मलाड स्थित बॉम्बे टॉकीज का स्टुडियो बना, जिसने पहली बार देव आनंद को अपनी फिल्म के लिए 20 हजार रुपए में अनुबंधित किया था।

प्रभात कंपनी ने उन्हें चार सौ रुपए माहवार पर रखा था। वहाँ उन्होंने दो फिल्मों में काम किया। उनकी पहली फिल्म 'हम एक हैं' थी। बॉम्बे टॉकीज की 'जिद्दीम' उनकी चौथी फिल्म थी, जिसने उन्हें सीधे स्टार बना दिया।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :