घर पर भी बाहुबली के कॉस्ट्यूम पहने रहते थे प्रभाष

शूटिंग के दौरान का काम दोगुना हो गया। वर्कआउट और शूटिंग साथ चलती थी। वे सुबह पांच बजे उठते। 7 बजे तक तैयार होकर शूटिंग शुरू कर देते थे। रात 10 बजे उनका काम खत्म होता था। यह सिलसिला कई दिनों तक चला।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :