महागठबंधन की महाविजय, नीतीश ही रहेंगे सीएम

पटना| Last Updated: सोमवार, 9 नवंबर 2015 (00:19 IST)
पटना। नीत ने बिहार विधानसभा चुनाव में  दो तिहाई सीटों के साथ महाविजय हासिल की। इस जीत के साथ नीतीश कुमार अब बिहार के मुख्यमंत्री बने रहेंगे।
 
भाजपा नीत राजग केवल 45 सीटों पर जीत दर्ज करके दौड़ में काफी पीछे छूट गया है। अब तक घोषित परिणामों में जदयू 59 सीट, राजद 57 और कांग्रेस 21 सीटें जीत चुके हैं। भाजपा को 40 और उसकी सहयोगी लोजपा और रालोसपा को दो-दो सीटों पर जीत मिली है जबकि हम (से) ने एक सीट जीती है। दो सीट भाकपा माले की झोली में गई हैं तो दो सीटें निर्दलीय के खाते में।
 
अब तक प्राप्त अन्य 57 सीटों के रूझान में भाजपा 12 सीटों पर आगे चल रही है। जबकि कांग्रेस 6, जदयू 12 और राजद 24 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।
 
राजग में शामिल लोजपा 1 सीट पर और अन्य 2 सीटों पर निर्दलीय बढ़त बनाए हुए हैं। चुनाव में महागठबंधन की निर्णायक बढ़त के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू प्रसाद एक साथ मीडिया के सामने आए और एक दूसरे को गले लगाकर बधाई दी। दोनों ने महागठबंधन में विश्वास जताने के लिए जनता का धन्यवाद किया।
 
जदयू नेता नीतीश कुमार ने कहा कि भाजपा नीत राजग के एक आक्रामक प्रचार और मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने के उसके प्रयासों के बावजूद भारी जनादेश यह दिखाता है कि सभी समुदाय के लोगों की कुछ उम्मीदें हैं और वह उन्हें पूरा करने के लिए अपना पूरा प्रयास करेंगे। उन्होंने यद्यपि इस बात पर जोर दिया कि कड़वे प्रचार के बावजूद वह किसी के खिलाफ मनमुटाव नहीं रखेंगे और एक सकारात्मक मानसिकता रखते हुए सभी के साथ मिलकर काम करेंगे। उन्होंने बिहार की प्रगति के लिए केंद्र से सहयोग मांगा।
 
उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्गों के लोगों के समर्थन के बिना इतनी बड़ी जीत संभव नहीं थी जिसमें महिलाएं, दलित और अल्पसंख्यक शामिल हैं।
 
प्रसाद ने जोर देकर कहा कि वह अपना संघर्ष जारी रखेंगे। बिहार परिणाम का राष्ट्रीय राजनीति पर इतना दीर्घकालिक प्रभाव होगा जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। मोदी सरकार, आरएसएस सरकार ढह जाएगी। मैं लालटेन के साथ वाराणसी (मोदी के संसदीय क्षेत्र) जाउंगा। राजद के अकेली सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के बावजूद प्रसाद ने कहा कि यह किसी एक पार्टी की नहीं बल्कि महागठबंधन की जीत है।
 
उन्होंने अपने चिर परिचित अंदाज में कहा, 'यदि कोई हमारे बीच बंटवारे के बीज बोना चाहता है तो हम वह होने नहीं देंगे। हम अगले दस जन्मों तक अलग नहीं होंगे।' प्रसाद ने अपने देशव्यापी आंदोलन के बारे में कहा कि वह साम्प्रदायिक मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए किसानों, श्रमिकों और वंचित वर्गों को साथ लेंगे। उन्हें बिहार से बाहर खदेड़ दिया गया है। 
राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने कहा कि महागठबंधन साम्प्रदायिक नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक राष्ट्र स्तरीय आंदोलन शुरू करेगा और जनता का आंदोलन खड़ा करने के लिए वह देश भर का दौरा करेंगे। उन्होंने यह भी घोषणा की कि कुमार मुख्यमंत्री बने रहेंगे।
 
बिहार विधानसभा चुनाव में हार स्वीकार करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने नीतीश कुमार और लालू प्रसाद को बधाई दी और कहा कि उनका दल जनादेश का सम्मान करता है।
 
राहुल गांधी ने महागठबंधन की जीत को विभाजनकारी सोच पर एकता की, अहंकार पर विनम्रता की और नफरत पर प्यार की जीत करार दिया।
 
वहीं, नीतीश कुमार ने केंद्र में मजबूत विपक्ष के लिए गैर भाजपा ताकतों के साथ आने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि बिहार चुनाव का एक राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य है और यह जरूरी है कि वे एक मजबूत विकल्प देने के लिए साथ मिलकर काम करें।
 
उन्होंने कहा, 'का राष्ट्रीय प्रभाव होगा क्योंकि इसने पूरे देश का ध्यान आकृष्ट किया है। परिणाम से यह स्पष्ट हो गया है कि लोग राष्ट्रीय स्तर पर एक मजबूत विपक्ष और एक मजबूत विकल्प चाहते हैं।'
 
भाजपा नेता राम माधव ने हालांकि इन दावों को खारिज किया कि बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम इस बात का संकेत है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता में कमी आई है। उन्होंने हालांकि इस हार के मद्देनजर सुधारात्मक कदम उठाने की बात कही।
 
आप नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी नीतीश कुमार को ‘ऐतिहासिक जीत’ पर बधाई दी।
 
चुनाव में भाजपा नीत गठबंधन की हार के बीच सहयोगी शिवसेना ने चुटकी लेते हुए कहा कि बिहार चुनाव परिणाम ‘एक नेता के पराभव’ का संकेत हैं।
 
कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा, 'शाबास बिहार। कांग्रेस, राजद और जदयू के नेतृत्व और कार्यकर्ताओं को बधाई। उन्होंने राजग के झूठे दावों को पराजित करने के लिए कठिन परिश्रम किया।'
 
चुनाव के समय महागठबंधन के पक्ष में खुलकर समर्थन में आई पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विजय के लिए नीतीश कुमार और लालू प्रसाद को बधाई दी और इसे सहिष्णुता की विजय और असहिष्णुता की पराजय बताया। (भाषा)
>

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :