वुसत का ब्लॉग: इसलिए पाकिस्तानी चुनाव में खड़े होते हैं घोड़े

पुनः संशोधित मंगलवार, 5 जून 2018 (11:17 IST)
- वुसअतुल्लाह ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार, से)
पाकिस्तान में आम 25 जुलाई को होंगे मगर चुनाव की तारीख़ घोषित होने से पहले ही घोड़ा मंडी सज गई। जहां घोड़ों का वंश चेक हो रहा है, वज़न चेक किया जा रहा है, हिन-हिनाहट में खरज़ नापी जा रही है और ये देखा जा रहा है कि इससे पहले कितने चुनावी रेसों में पहले, दूसरे, तीसरे नंबर पर आया है।


इसके बाद पार्टी नेता के साथ घोड़े की तस्वीर खींचती है और फिर रेस की सूची में नाम लिख लिया जाता है।

चूंकि अगली रेस हर क़ीमत पर जीतनी है इसलिए ये देखने के लिए किसी पार्टी के पास समय नहीं कि कहीं उसकी सुमो तले कोई आदमी तो नहीं कुचला गया, कहीं उसे या उसके पुरखों को किसी ने कभी गाड़ी या तांगे में तो नहीं जोता, कभी ये घोड़ा बदमाश, लुच्चे या रेपिस्ट को सवारी तो नहीं बना रहा, मालिक को कभी बीच रास्ते में उछाल कर तो नहीं भाग गया।


बस, आओ परिचय कराओ और चुनाव तबेले में दाख़िल हो जाओ। अजब लोकतंत्र है जिसमें वोटर इंसान है और चुनाव घोड़े लड़ रहे हैं। चुनाव की दौड़ में हज़ारों घोड़े भाग लेंगे मगर लगभग 1100 ही जीत की शपथ ले पाएंगे कि वे नए मालिक के वफ़ादार रहेंगे।

साइज जैसा भी हो वो ज़्यादा चु-चरा नहीं करेंगे। भले उन्हें मालिक गाड़ी में जोते, रेस में भेजे, अपनी सवारी के लिए रखे या किसी को किराए पर दे दे। किसी बात पर बुरा मानके अगली दो टांगो पर खड़े हो कर विरोध नहीं करेंगे।


बदले में दो वक़्त ताज़ा हरी-हरी घास, आला-चोकर और खली, रोज़ाना मालिश और सुबह-शाम की सैर। जिस घोड़े ने टेढ़ा सवाल पूछा या इनकार में गर्दन हिलाई उसे किसी कोचवान के हवाले किया जा सकता है फिर चाहे वो गोली मारे, तांगे में जोते या जंगल में छोड़ दे।

पर चुनाव में बस घोड़ो को ही खड़े होने की क्यों इजाज़त है?

यूं इजाज़त है क्योंकि घोड़ा मालिक इंसान से भी ज़्यादा वफ़ादार होता है।

मगर मालिक का वफ़ादार तो कुत्ता भी होता है?

हां, होता है, मगर कुत्ते चुनाव इसलिए नहीं लड़ सकते क्योंकि उन पर सवारी नहीं गाठी जा सकती।

आम चुनाव में क्या आम आदमी भी खड़ा हो सकता है?

हां, बिल्कुल हो सकता है अगर वो अपना घोड़े होने का सर्टिफिकेट ले आये।
कोई और सवाल?

जी नहीं।

ठीक है, तो फिर जाओ चुनाव के दिन वोट देने ज़रूर आ जाना, फिर न जाने तुम्हें कब मौक़ा मिले।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

भारत में इंसानी मल को ढोते हजारों लोग

भारत में इंसानी मल को ढोते हजारों लोग
भारत में 21वीं सदी में भी ऐसे लोग मौजूद हैं जो इंसानी मल को उठाने और सिर पर ढोने को मजबूर ...

क्या होगा जब कंप्यूटर का दिमाग पागल हो जाए

क्या होगा जब कंप्यूटर का दिमाग पागल हो जाए
क्या होगा अगर कंप्यूटर और मशीनों को चलाने वाले दिमाग यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पागल हो ...

चंद हज़ार रुपयों से अरबपति बनने वाली केंड्रा की कहानी

चंद हज़ार रुपयों से अरबपति बनने वाली केंड्रा की कहानी
गर्भ के आख़िरी दिनों में केंड्रा स्कॉट को आराम के लिए कहा गया था। उसी वक़्त उन्हें इस ...

सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी ...

सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी इंडिया'
सिंगापुर का "लिटिल इंडिया" दो किलोमीटर के इलाक़े में बसा एक मिनी भारत है। ये विदेश में ...

जर्मन बच्चे कितने पढ़ाकू, कितने बिंदास

जर्मन बच्चे कितने पढ़ाकू, कितने बिंदास
जर्मनी में एक साल के भीतर कितने बच्चे होते हैं, या बच्चों को कितनी पॉकेट मनी मिलती है, या ...

खूंटी गैंगरेप मामला : विरोधस्वरूप 10 दिन तक कोई कार्यक्रम ...

खूंटी गैंगरेप मामला : विरोधस्वरूप 10 दिन तक कोई कार्यक्रम पेश नहीं करेंगे कलाकार
जमशेदपुर। झारखंड के खूंटी जिले में इस हफ्ते की शुरुआत में 5 महिलाओं से सामूहिक बलात्कार ...

बैंकर का किसान की पत्नी से यौन इच्छा की पूर्ति की मांग ...

बैंकर का किसान की पत्नी से यौन इच्छा की पूर्ति की मांग हैरान करने वाली : चव्हाण
मुंबई। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने महाराष्ट्र के बुल्ढाना जिले में एक बैंक ...

असम में बाढ़ की स्थिति भयावह, दो और जिले प्रभावित

असम में बाढ़ की स्थिति भयावह, दो और जिले प्रभावित
गुवाहाटी। असम में पिछले 2 दिनों से बाढ़ की स्थिति में सुधार नजर आ रहा था लेकिन बढ़ते ...