कीलक स्तोत्र का यह पावरफुल मंत्र बस 31 बार पढ़ें और देखें चमत्कार

kilak-mantrakilak-mantra
मात्र 31 बार कीलक स्तो‍त्र के निम्नलिखित मंत्र का जप करने से आश्चर्यजनक रूप से मन की शांति का आभास होता है और विचारों में सकारात्मकता आती है। लेकिन शर्त यही है कि पहले गणेशजी के किसी भी की एक माला (108 बार मंत्र जाप) करें। तत्पश्चात इस मंत्र को पूर्ण एकाग्र होकर जपें।

जब तक आंखें बंद करने पर कोई एक विशेष रंग नजर ना आने लग जाए मन को ध्यानस्थ ना मानें। जब मन एक बिंदु पर आकर स्थिर हो जाए तब मंत्र का 31 बार जाप करें और स्वयं देखें चमत्कार।
कीलक स्तो‍त्र का मंत्र-

'ॐ विशुद्धज्ञान देहाय त्रिवेदी दिव्य चक्षुषे।
श्रेय: प्राप्तिनिमित्ताय नम: सोमार्ध धारिणे।।'

यह मंत्र ज्ञान, भक्ति, शांति, मोक्ष तथा जीवन में सकारात्मकता प्राप्त करने में प्रभावशाली असर देता है।



और भी पढ़ें :