अतिशय मंगलकारी हैं शनिदेव के 108 पावन नाम...

Shani 108 Names
* पढ़ें शनिदेव के 108 नाम, मिलेगी बुरे कर्मों से मुक्ति..
श्री शनिदेव सूर्य देव के पुत्र तथा मृत्युलोक के ऐसे स्वामी (अधिपति) हैं, जो समय आने पर व्यक्ति के अच्‍छे-बुरे कर्मों के आधार पर सजा देकर सुधारने के लिए प्रेरित करते हैं। अत: शनि की अनुकूलता पाने के लिए उनके 108 नामों का जाप करना अतिशय मंगलकारी है।

यहां पाठकों के लिए प्रस्तु हैं भगवान और उनका भावार्थ

1. शनैश्चर- धीरे-धीरे चलने वाला
2. शांत- शांत रहने वाला
3. सर्वाभीष्टप्रदायिन्- सभी इच्छाओं को पूरा करने वाला
4. शरण्य- रक्षा करने वाला
5. वरेण्य- सबसे उत्कृष्ट
6. सर्वेश- सारे जगत के देवता
7. सौम्य- नरम स्वभाव वाले
8. सुरवन्द्य- सबसे पूजनीय
9. सुरलोकविहारिण्- सुरह्स की दुनिया में भटकने वाले
10. सुखासनोपविष्ट- घात लगा के बैठने वाले
11. सुन्दर- बहुत ही सुंदर
12. घन- बहुत मजबूत
13. घनरूप- कठोर रूप वाले
14. घनाभरणधारिण्- लोहे के आभूषण पहनने वाले
15. घनसारविलेप- कपूर के साथ अभिषेक करने वाले
16. खद्योत- आकाश की रोशनी
17. मंद- धीमी गति वाले
18. मंदचेष्ट- धीरे से घूमने वाले
19. महनीयगुणात्मन्- शानदार गुणों वाला
20. मर्त्यपावनपद- जिनके चरण पूजनीय हो
21. महेश- देवो के देव
22. छायापुत्र- छाया का बेटा
23. शर्व- पीड़ा देना वाला
24. शततूणीरधारिण्- सौ तीरों को धारण करने वाले
25. चरस्थिरस्वभाव- बराबर या व्यवस्थित रूप से चलने वाले
26. अचञ्चल- कभी ना हिलने वाले
27. नीलवर्ण- नीले रंग वाले
28. नित्य- अनंत एक काल तक रहने वाले
29. नीलाञ्जननिभ- नीला रोगन में दिखने वाले
30. नीलाम्बरविभूषण- नीले परिधान में सजने वाले
31. निश्चल- अटल रहने वाले
32. वैद्य- सब कुछ जानने वाले
33. विधिरूप- पवित्र उपदेश देने वाले
34. विरोधाधारभूमि- जमीन की बाधाओं का समर्थन करने वाले
35. भेदास्पद स्वभाव- प्रकृति का पृथक्करण करने वाला
36. वज्रदेह- वज्र के शरीर वाला
37. वैराग्यद- वैराग्य के दाता
38. वीर- अधिक शक्तिशाली
39. वीतरोगभय- डर और रोगों से मुक्त रहने वाले
40. विपत्परम्परेश- दुर्भाग्य के देवता
41. विश्ववंद्य- सबके द्वारा पूजे जाने वाले
42. गृध्नवाह- गिद्ध की सवारी करने वाले
43. गूढ़- छुपा हुआ
44. कूर्मांग- कछुए जैसे शरीर वाले
45. कुरूपिण्- असाधारण रूप वाले
46. कुत्सित- तुच्छ रूप वाले
47. गुणाढ्य- भरपूर गुणों वाले
48. गोचर- हर क्षेत्र पर नजर रखने वाले
49. अविद्यामूलनाश- अनदेखा करने वालों का नाश करने वाले
50. विद्याविद्यास्वरूपिण्- ज्ञान करने वाले और अनदेखा करने वाले
51. आयुष्यकारण- लंबा जीवन देने वाले
52. आपदुद्धर्त्र- दुर्भाग्य को दूर करने वाले
53. विष्णुभक्त- विष्णु के भक्त
54. वशिन्- स्वनियंत्रित करने वाले
55. विविधागमवेदिन्- कई शास्त्रों का ज्ञान रखने वाले
56. विधिस्तुत्य- पवित्र मन से पूजे जाने वाले
57. वंद्य- पूजनीय
58. विरुपाक्ष- कई नेत्रों वाले
59. वरिष्ठ- उत्कृष्ट
60. गरिष्ठ- आदरणीय देव
61. वज्रांगकुशधर- वज्र-अंकुश रखने वाले
62. वरदाभयहस्त- भय को दूर भगाने वाले
63. वामन- (बौना) छोटे कद वाले
64. ज्येष्ठापत्नीसमेत- जिसकी पत्नी ज्येष्ठ हो
65. श्रेष्ठ- सबसे उच्च
66. मितभाषिण्- कम बोलने वाले
67. कष्टौघनाशकर्त्र- कष्टों को दूर करने वाले
68. पुष्टिद- सौभाग्य के दाता
69. स्तुत्य- स्तुति करने योग्य
70. स्तोत्रगम्य- स्तुति के भजन के माध्यम से लाभ देने वाले
71. भक्तिवश्य- भक्ति द्वारा वश में आने वाले
72. भानु- तेजस्वी
73. भानुपुत्र- भानु के पुत्र
74. भव्य- आकर्षक
75. पावन- पवित्र
76. धनुर्मण्डलसंस्था- धनुमंडल में रहने वाले
77. धनदा- धन के दाता
78. धनुष्मत्- विशेष आकार वाले
79. तनुप्रकाशदेह- तन को प्रकाश देने वाले
80. तामस- ताम गुण वाले
81. अशेषजनवंद्य- सभी सजीव द्वारा पूजनीय
82. विशेषफलदायिन्- विशेष फल देने वाले
83. वशीकृतजनेश- सभी मनुष्यों के देवता
84. पशूनांपति- जानवरों के देवता
85. खेचर- आसमान में घूमने वाले
86. घननीलांबर- गाढ़ा नीला वस्त्र पहनने वाले
87. काठिन्यमानस- निष्ठुर स्वभाव वाले
88. आर्यगणस्तुत्य- आर्य द्वारा पूजे जाने वाले
89. नीलच्छत्र- नीली छतरी वाले
90. नित्य- लगातार
91. निर्गुण- बिना गुण वाले
92. गुणात्मन्- गुणों से युक्त
93. निंद्य- निंदा करने वाले
94. वंदनीय- वंदना करने योग्य
95. धीर- दृढ़निश्चयी
96. दिव्यदेह- दिव्य शरीर वाले
97. दीनार्तिहरण- संकट दूर करने वाले
98. दैन्यनाशकराय- दुख का नाश करने वाले
99. आर्यजनगण्य- आर्य के लोग
100. क्रूर- कठोर स्वभाव वाले
101. क्रूरचेष्ट- कठोरता से दंड देने वाले
102. कामक्रोधकर- काम और क्रोध के दाता
103. कलत्रपुत्रशत्रुत्वकारण- पत्नी और बेटे की दुश्मनी
104. परिपोषितभक्त- भक्तों द्वारा पोषित
105. परभीतिहर- डर को दूर करने वाले
106. भक्तसंघमनोऽभीष्टफलद- भक्तों के मन की इच्छा पूरी करने वाले
107. निरामय- रोग से दूर रहने वाले
108. शनि- शांत रहने वाले।

प्रस्तुति - आरके.


और भी पढ़ें :