ज्योतिष के अनुसार बुध की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...

भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, मंगल, गुरु, शनि, राहु और केतु। ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है।

यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है के बारे में रोचक जानकारी...

* बुध ग्रह के अधिदेवता भगवान विष्णु हैं।

* बुध व्यापार के देवता तथा व्यापारियों के रक्षक हैं।

* बुध चन्द्र और तारा के पुत्र है।

* बुध, बुध ग्रह का देवता है।

* बुध सौरमंडल के 8 ग्रहों में सबसे छोटा और सूर्य से निकटतम है।

* बुध के हाथों में तलवार, ढाल, गदा तथा वरमुद्रा धारण की हुई है।

* बुध रामगर मंदिर में एक पंख वाले शेर की सवारी करते हैं।
* आकाश में तेजी से गमन करने के कारण बुध ग्रह को संदेशवाहक देवता का नाम मिला।



* ब्रह्माजी ने बुध को भूतल का स्वामी बनाया।

* बुध का रथ श्वेत है और उसमें वायु के समान गति वाले 10 घोड़े जुते हुए हैं।

* बुध रजो गुण वाले हैं तथा संवाद का प्रतिनिधित्व करते हैं।

* बुध को सुवक्ता, शांत और हरे रंग में प्रस्तुत किया जाता है।

* बुध की बुद्धि बड़ी गम्भीर थी, अत: ब्रह्माजी ने उनका नाम बुध रखा।

* मंत्र- 'ॐ बुं बुधाय नम:' है।

-आरके.


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :