8 तरह की महिलाएं मानी जाती हैं 'अलक्ष्मी'


अलग-अलग शास्त्रों में भाग्यहीन वर्णित है। आइए जानते हैं उनमें से प्रमुख लक्षण क्या है-

* जो स्त्री मैली-कुचैली सी रहती है।

* जो पाप कर्मों में रत रहती है, पराये पुरुषों में जिसका मन रमता है।

* जो बात-बात पर गुस्सा करती है, जो छल-कपट या मिथ्या भाषण करती है।

* जो अपने घर को सजा संवार कर नहीं रखती, जिसके विचार उत्तम नहीं होते।

* जो अपनी संतान से स्नेह नहीं रखती।

* जो सिर्फ अपने बारे में सोचती है।

* जो दूसरो के घरों में झगड़ा लगाने की ताक में रहती है।

* जो इधर की बात उधर करती है।

सूचना : यह जानकारी अलग-अलग शास्त्रों से अनुवाद की गई है, जिसे यथास्वरूप प्रस्तुत किया गया है। वेबदुनिया संपादकीय विभाग के विचार इसमें शामिल नहीं हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :