इस बार देवउठनी एकादशी पर नहीं है शुभ विवाह मुहूर्त, नहीं होंगी शादियां...

Guru Shaadi
 
* देवउठनी एकादशी से गुरु अस्त, नहीं होंगे मांगलिक कार्य... 
विवाह के लिए अबूझ मुहूर्त माने जाने वाली देवउठनी एकादशी 31 अक्टूबर, को मनाई जाएगी, पर इस साल विवाह इस दिन नहीं होंगे। ऐसा इसलिए है कि इस साल देवउठनी एकादशी पर रहेगा इसलिए एकादशी के 18 दिन बाद 19 नवंबर से शहनाइयों की गूंज सुनाई देगी।
 
पं. जोशी के अनुसार आमतौर पर विवाह के मुहूर्त देवउठनी एकादशी या देव प्रबोधिनी एकादशी से शुरू होते हैं। लेकिन इस बार एकादशी के बाद अगले मुहूर्त में 18 दिन का अंतराल रहेगा।
 
इस साल दीपावली से 11वें दिन यानी देवउठनी एकादशी अबूझ मुहूर्त के रूप में मान्य तो होगी लेकिन इस बार शादियां नहीं हो सकेंगी। गणनाओं के अनुसार गुरु अस्त होने से इस बार यह संयोग बन रहा है। इसके बाद सूर्य के वृश्चिक राशि में प्रवेश के साथ ही 19 नवंबर से शुभ मुहूर्त में शादियां शुरू होंगी। अगले साल भी यानी वर्ष 2018 में भी शादियां 19 नवंबर से ही शुरू हो रही हैं, जो 15 दिसंबर तक रहेंगी।
 
2 माह में 14 मुहूर्त श्रेष्ठ : 
 
इस वर्ष शादियों के लिए नवंबर और दिसंबर को मिलाकर केवल 14 मुहूर्त श्रेष्ठ हैं। ज्योतिष के अनुसार शादियों में शुभ मुहूर्त का विशेष महत्व होता है। विवाह यदि शुभ योग में हो तो उसके परिणाम भी बेहतर और समृद्धिकारक होते हैं। विवाह जैसे शुभ कार्य केवल गुण मिलान से ही नहीं, वरन अच्छी तरह पत्रिका, ग्रह मिलान कर ही करना चाहिए तथा शुभ मुहूर्त से ही होने चाहिए।
 
15 दिसंबर से 3 फरवरी तक फिर लगेगा ब्रेक : 
 
एकादशी के बाद 15 दिसंबर से 3 फरवरी 2018 तक शादियों पर फिर एक बार ब्रेक लगेगा। 15 दिसंबर से 3 फरवरी तक शुक्र तारा अस्त रहेगा। इस वजह से जनवरी महीने में कोई शादी-विवाह नहीं होंगे।
 
इसी प्रकार 14 मार्च से मीन संक्रांति एवं खग्रास शुरू हो रहे हैं, जो कि 17 अप्रैल तक रहेगा। इस बीच भी विवाह और मांगलिक कार्य नहीं हो सकेंगे। हालांकि 18 अप्रैल से विवाह शुरू हो जाएंगे।
 
इन दिनों में गूंजेंगी शहनाइयां : 
 
इसमें फरवरी माह में 4, 5, 7, 8, 9, 11, 18 और 19 तारीख को शादी का शुभ मुहूर्त है। इसके बाद मार्च में 3, 4 और 12 तारीख को, अप्रैल में 19, 20, 25 और 27 एवं मई में 2, 4, 6, 11, 12 और 13 तारीख को शादी का शुभ मुहूर्त है। इसके बाद जून में 18, 21, 23, 29 और 30, जुलाई में 5, 6, 7, 11, 15, 16, 18, 19, 20, 21 और 22 को शहनाइयां गूंजेंगी। इसके बाद 19 नवंबर 2018 से फिर शादियां शुरू होंगी।
 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान
हमारे शास्त्रों में ऐसे अनेक अनुष्ठानों का उल्लेख मिलता है जिन्हें उचित विधि व निर्धारित ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
राशियां जातक के व्यक्तित्व का दर्पण होती हैं। जातक का स्वरूप, स्वभाव एवं उसका व्यक्तित्व ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

2018 जानकी जयंती : जानिए पूजन का समय, मुहूर्त और महत्व...

2018 जानकी जयंती : जानिए पूजन का समय, मुहूर्त और महत्व...
इस वर्ष सीता नवमी 24 अप्रैल 2018, मंगलवार के दिन मनाई जा रही है। मंगलवार के दिन आने वाली ...

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...