इस राशि के व्यक्ति को हो सकते हैं यह रोग


के ग्रंथों में कालरूपी पुरुष के शरीर के विविध अंगों में बारह राशियों की स्थापना की गई है जिसके आधार पर उसके अंग रोगग्रस्त या स्वस्थ हैं, यह जाना जा सकता है।

ज्योतिष शास्त्र की मान्यता के अनुसार मेष राशि- सिर, वृष- मुख, मिथुन- भुजा, कर्क- हृदय, सिंह- पेट, कन्या- कमर, तुला- वस्ति, वृश्चिक- गुप्तांग, धनु- उरू, मकर- घुटने, कुम्भ- जंघा तथा मीन राशि पैरों का प्रतिनिधित्व करती है।
Widgets Magazine
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

मेष- नेत्ररोग, मुख रोग, सिरदर्द, मानसिक तनाव तथा अनिद्रा।

वृष- गले एवं श्वास नली के रोग, आंख, नाक एवं गले के रोग।

मिथुन- रक्तविकार, श्वास, फुफ्फुस रोग।

कर्क- हृदयरोग तथा रक्तविकार।
सिंह- पेटरोग तथा वायु विकार।

कन्या- आमाशय के विकार, अपच, जिगर और कमर दर्द।

तुला- मूत्राशय के रोग, मधुमेह, प्रदर एवं बहुमूत्र।

वृश्चिक- गुप्त रोग, भगन्दर, संसर्गजन्य रोग।

धनु-
मज्जा रोग, रक्तदोष, अस्थिभंग।
मकर- वातरोग, चर्मरोग, शीतरोग, रक्तचाप।

कुंभ- मा‍नसिक रोग, ऐंठन, गर्मी, जलोदर।

मीन- एलर्जी, गठिया, चर्मरोग एवं रक्तविकार।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine


Widgets Magazine

और भी पढ़ें :