Widgets Magazine

अंक ज्योतिष 2018 : क्या आप होंगे इस साल सफल

के अनुसार आइए जानते हैं कि वर्ष 2018 में किसे मिलेगी सफलता और कौन होगा निराश.... क्या आपके लिए शुभ है इस साल का गणित... पढ़ें यहां...

वर्ष का अंक 18 है इसका जोड़ 9 बनता है। 9 का स्वामी अंक अनुसार मंगल है। मंगल साहस, ऊर्जा, उग्र स्वभाव, साहसी कार्य का कारक है।

1.
जिन युवाओं की जन्म दिनांक 1, 10,19, 28 हैं उनका स्वामी सूर्य है। सूर्य मंगल का मित्र
है
अत: एक नई ऊर्जा के साथ कई महत्वपूर्ण कार्य बनेंगे। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। बेरोजगार रोजगार के लिए प्रयास करें,निश्चित रूप से सफल होंगे। पदोन्नति के योग भी हैं, राजनेताओं को लाभ मिलेगा। पुलिस सेवा से जुड़े व्यक्ति लाभान्वित होंगे। शत्रु वर्ग पर प्रभाव बना रहेगा। वादविवाद प्रतियोगिता में सफल होंगे।
2.जिनकी जन्म दिनांक 2, 11, 20, 29 हैं उनका स्वामी चन्द्र है मंगल चन्द्र का मित्र है। इस साल एक नई ऊर्जा का संचार होगा वहीं सोचे कार्य जो अभी तक रूके थे पूरे होंगे। स्वास्थ्य ठीक रहेगा। वैवाहिक जीवन सुखद कहा जा सकता है।
3. जिनकी जन्म दिनांक 3, 12, 21, 30 हैं उनका स्वामी गुरु है और गुरु मंगल का मित्र है। न्यायिक क्षेत्र से जुड़े व्यक्यिों के लिए सफलता भरा वर्ष रहेगा। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलेगी। अविवाहितों को खुशखबरी मिलेगी। अधिवक्ताओं, प्रशासनिक क्षेत्र से जुड़े व्यक्ति भी अनुकूल सफलता पाएंगे।
4. जिनकी जन्म दिनांक 4,13, 22,31 हैं उनका स्वामी राहु है। मंगल राहु का शत्रुहै। कोई गोपनीय चिंता रहेगी। कार्य में रूकावट आएगी। कार्य योजनाओं को गुप्त रखकर ही आगे बढ़ें तभी सफल होंगे। आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।
5. जिनकी जन्म तारीख 5, 14, 23 हैं उनका
स्वामी बुध है। मंगल बुध में समभाव होता है अत: विशेष कार्य में अनुकूल सफलता मिलेगी। साहसबल में वृद्धि होगी। सुखद समाचार मिलने के आसार हैं। नवीन व्यवसाय करना चाहते हैं तो समय अनुकूल है। स्वास्थ्य ठीक रहेगा। शत्रु पक्ष प्रभावहीन होंगे।
6. जिनकी जन्म तारीख 6, 15, 24 हैं उनका स्वामी शुक्र है। शुक्र मंगल की आपस में शत्रुता होती है अत: आपको सावधानी रखना होगी। आर्थिक मामलों में जोखिम से बचना होगा। स्वयं पर नियंत्रण रखकर चलना होगा। स्त्री पक्ष को सावधानी बरतना होगी। दाम्पत्य जीवन में मिलीजुली स्थिति रहेगी।
7.जिनकी जन्म तारीख 7, 16, 25 हैं उनका स्वामी नेप्चुन है। मंगल से इसकी ना मित्रता है ना शत्रुता अत: कामकाज में सामान्य स्थिति रहेगी। व्यापार व्यवसाय में जोखिम के कार्य से बचना होगा। स्त्री पक्ष के मामलों में सावधानी रखें। आर्थिक मामलों में लेनदेन से बचना होगा। स्वास्थ्य मिलाजुला रहेगा।
8. जिनकी जन्म तारीख 8, 17, 26 हैं उनका स्वामी शनि है। शनि मंगल का शत्रु है। अत: काफी संभलकर चलना होगा। पारिवारिक मामलों में सोच विचार कर चलें। व्यवसाय में जोखिम से बचें। वाहनादि सावधानी से चलाएं। नौकरीपेशा अपने कार्य की जिम्मेदारी समझें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें।
9. जिनकी जन्म तारीख 9, 18, 27 हैं उनका स्वामी मंगल है वहीं वर्ष का स्वामी भी मंगल है। इस वर्ष आपकी हर तरह से चांदी है। उत्साह बढ़ेगा। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। शत्रुपक्ष प्रभावहीन होंगे। व्यापार में उन्नति होगी। नौकरीपेशा के लिए सुखद स्थिति रहेगी। जमीन जायजाद के कार्य बनेंगे।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

शुक्रवार के 11 प्रभावकारी उपाय एवं टोटके देंगे मनोवांछित ...

शुक्रवार के 11 प्रभावकारी उपाय एवं टोटके देंगे मनोवांछित फल...
कई बार ग्रह-नक्षत्र या दोष की वजह से व्यक्ति को मेहनत का पूर्ण फल प्राप्त नहीं हो पाता। ...

23 अप्रैल को है मां बगलामुखी जयंती, जानें कैसे करें

23 अप्रैल को है मां बगलामुखी जयंती, जानें कैसे करें साधना...
सोमवार, 23 अप्रैल 2018 को बगलामुखी जयंती है। मां बगलामुखी की साधना शत्रु बाधा से मुक्ति ...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...
ज्यादातर ज्योति‍षी का मानना है कि अगर कुंडली में मंगल कमजोर हो तो गुरुवार का दिन प्रतिकूल ...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...
चांदी को भी पवित्र धातु माना गया है। सोना-चांदी आदि धातुएं केवल जल अभिषेक से ही शुद्ध हो ...

वैशाख शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग : 30 अप्रैल को है बुद्ध ...

वैशाख शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग : 30 अप्रैल को है बुद्ध पूर्णिमा
'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक पंचाग' श्रृंखला में प्रस्तुत है वैशाख माह के शुक्ल ...

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?
मांग में सिंदूर सजाना एक वैवाहिक संस्कार है। सौभाग्यवती स्त्रियां मांग में जिस स्थान पर ...

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

नजर और बाधा से बचाएगा मां बगलामुखी का एक मंत्र, करें ये ...

नजर और बाधा से बचाएगा मां बगलामुखी का एक मंत्र, करें ये उपाय...
बगलामुखी साधना दस महाविद्याओं में से एक है। मां बगलामुखी की साधना बाहरी नजर तथा शत्रु ...