मिड कैप, स्‍मॉल कैप शेयरों में तूफान संभव

FILE
वर्ष 2009 अनेक समझदार विश्‍लेषकों की समझ से परे तेजी के बीच विदाई ले रहा है। ये विश्‍लेषक मार्च महीने में भारतीय शेयर बाजार के पूरी तरह तलहटी में बैठ जाने की भविष्‍यवाणी कर रहे थे, लेकिन बाजार ही सबसे ऊपर होता है और उसने करवट लेते हुए सभी के अनुमान एवं आशंकाएँ झुठला दी। हालाँकि, अभी तक सेंसेक्‍स 18 हजार के स्‍तर को छू नहीं पाया है, जिसकी प्रबल संभावना थी। लेकिन मार्च महीने के बाद जिन निवेशकों ने शेयर बाजार में निवेश किया और अपने निवेश को बनाए रखा उन्‍हें बाजार में काफी फायदा हुआ है। अनेक ऐसे शेयर हैं जिनके भाव मार्च-अप्रैल में पैंदे में थे और आज इनमें निवेशकों को कई गुना फायदा हो रहा है। इसलिए जो निवेशक शेयर बाजार में धैर्य रखते हैं, सही समय पर फैसला करते हैं वे ही यहाँ विजेता बनकर उभरते हैं।

निवेश करते समय ट्रेडिंग शेयर और निवेश शेयरों को अलग-अलग रखें ताकि ट्रेडिंग शेयरों में कमाया गया मुनाफा निवेश शेयरों में लगाकर अपने धन को अनेक गुना किया जा सके।

21 दिसंबर से शुरू हो रहे नए सप्‍ताह में बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्‍स 16977 से 16222 के बीच घूमता रहेगा। जबकि, नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 5066 से 4833 के बीच देखने को मिल सकता है।

तकनीकी विश्‍लेषक हितेंद्र वासुदेव का कहना है कि बीएसई के मिड कैप और स्‍मॉल कैप इंडेक्‍स में गिरावट यह बताती है कि आने वाले दिनों में फ्रंट लाइन स्टॉक्‍स में बड़ी नरमी आ सकती है। सेंसेक्‍स साप्‍ताहिक आधार पर ब्रेकआउट होकर 17500 के ऊपर बंद होता है तो ही बाजार बुरी तरह गिरने से बच सकता है। अगले सप्‍ताह सेंसेक्‍स को 16516-16200-16100 पर सपोर्ट मिलेगा, जबकि रेसीसटेंस 16896-17098-17275- 17500 है।

स्‍टॉक चार्ट कैपिटल सर्विसेज, इंदौर के तकनीकी विश्‍लेषक राजीव गुप्‍ता का कहना है कि आने वाले सप्‍ताह में बाजार में भी दिशाहीनता से दबाव ही बना रह सकता है और बाहरी बाजारों में भी यही स्थिति रहने की संभावना रहेगी। खबरों पर आधारित कुछ शेयरों में ही अच्‍छा कामकाज हो सकता है। 4987 पर स्थित निफ्टी 5185 के प्रतिरोध को ब्रेक कर पाने में असफल रहा लेकिन इसने 5050 के समर्थन को ब्रेक कर दिया। 5070 और 5185 इस समय निफ्टी के लिए मुख्‍य प्रतिरोध स्‍तर है। 4800 और 4500 के नीचे बाजार खराब हो जाने की आशंका रहेगी। गिरावट की वजह से यह नीचे में 4990-4955 और 4900 तक आ सकता है।

सूरत कमर्शियल सर्विसेज, सूरत के तकनीकी विश्‍लेषक गोपाल मोदी का कहना है कि इस वर्ष के अंत में अ‍ब केवल आठ कारोबारी दिन हैं, जबकि और वोल्‍यूम घटने की संभावना के बीच कुछ शेयरों में भारी उथल-पुथल की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। तकनीकी तौर पर दैनिक आधार पर अल्‍प अवधि के लिए अधिक बिकवाली की स्थिति में मध्‍यम से लंबी अवधि के लिए तेजी का रुख दिखता है। बीते सप्‍ताह बाजार की घटबढ़ के दौरान निश्चित रेंज में बाजार देखने को मिला। अगले सप्‍ताह के दौरान भी इसी तरह की चाल यथावत रहने की संभावना है।

पहली ट्रेडिंग रेंज 17033 से 16758 के बीच, दूसरी ट्रेडिंग रेंज 17033 से 17187 के बीच या अधिक से अधिक 17255 के बीच और तीसरी रेंज 16758-16604 के बीच और ज्‍यादा से ज्‍यादा 16536 के बीच बनी रहेगी।

निवेशक इस सप्‍ताह श्रीरेणुका शुगर, अमरराजा बैटरीज, एस्‍सार ऑयल, बिलकेयर, एलडर फार्मा, स्‍पाइस जेट, व्‍हर्लपूल ऑफ इंडिया, हैवल्‍स इंडिया, अनंतराज इंडस्‍ट्रीज, रेमंडस, इंडियन बैंक और बारटोनिक्‍स के शेयरों पर ध्‍यान दे सकते हैं।

WD|
कमल शर्मामें अब मिड कैप और स्‍मॉल कैप शेयरों में तूफान देखने को मिल सकता है। 21 दिसंबर से शुरू हो रहा नया सप्‍ताह केवल चार दिनों का है, क्‍योंकि 25 दिसंबर शुक्रवार को क्रिसमस का अवकाश है। इसके बाद 28 दिसंबर सोमवार को मोहर्रम की छुट्टी है। फिर एक जनवरी को नए वर्ष का अवकाश है। छुट्टियों से भरे इन तीन सप्‍ताह के दौरान घरेलू शेयर बाजार से विदेशी संस्‍थागत निवेशक भी गायब रहेंगे, ऐसे में घरेलू खिलाड़ियों को मिड कैप और स्‍मॉल कैप शेयरों में अपनी मनमर्जी करने की छूट मिल जाएगी। दिसंबर अंत में ऐसा अधिकतर होता आया है और आम निवेशक इस उछाल के खेल में अपने शेयर जरूर बेच दें लेकिन नई खरीद से पूरी तरह बचें।
*यह लेखक की निजी राय है। किसी भी प्रकार की जोखिम की जवाबदारी वेबदुनिया की नहीं होगी।


और भी पढ़ें :