राम जेठमलानी : इस्तीफा नहीं दूंगा, लड़ाई जारी रखूंगा

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 7 नवंबर 2012 (17:20 IST)
FILE
भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी की कंपनियों में संदिग्ध निवेश को लेकर उनका इस्तीफा मांगने वाले भाजपा के राज्यसभा सदस्य राम जेठमलानी ने कहा कि वे भाजपा अध्यक्ष के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेंगे, लेकिन पार्टी से इस्तीफा नहीं देंगे।

जेठमलानी ने कहा, अगर जरूरत पड़ी तो मैं अकेले लडूंगा, भाजपा जो भी निर्णय करे, मैं पार्टी से इस्तीफा नहीं दूंगा, क्योंकि मैं लड़ाई जारी रखना चाहता हूं। मैं क्यों इस्तीफा दूं? जेठमलानी से पूछा गया था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से अभयदान से गडकरी को मिले जीवनदान के बाद क्या वह पार्टी से इस्तीफा देने पर विचार कर रहे हैं।

उन्होंने हालांकि इस बात का निर्णय भाजपा पर ही छोड़ दिया कि गडकरी को अध्यक्ष पद पर बने रहने दिया जाए या नहीं और कहा, वे लोग सम्मानित व्यक्ति हैं? जो कुछ हो रहा है, वे वह सब सुन रहे हैं। निर्णय उनको लेना है। जेठमलानी ने बताया कि संघ के विचारक एस गुरुमूर्ति ने उनसे वादा किया है कि वे गडकरी की कंपनियों से जुड़े दस्तावेज एक नोट के साथ उन्हें भेजेंगे।
उन्होंने कहा, उन्होंने यह भी वादा किया है कि वह जो भी सवाल पूछना चाहेंगे, गडकरी उनका जवाब देने को इच्छुक होंगे। वे मेरे पास आएंगे और मेरे सवालों का जवाब देंगे। गडकरी का इस्तीफा मांगकर भाजपा में हड़कंप मचा देने वाले जेठमलानी ने गुरुमूर्ति से मंगलवार शाम हुई अपनी बातचीत के बाद अपना रुख कुछ नरम किया। गुरुमूर्ति ने उन्हें यह आश्वस्त करने का प्रयास किया कि गडकरी पर लगाए गए आरोप निराधार हैं। (भाषा)

-->

और भी पढ़ें :