काँच मंदिर पर सामूहिक क्षमावाणी आज

ND
दिगंबर जैन समाज के दसलक्षण पर्व (पर्युषण) के समापन पर समाज के प्रमुख आस्था के केंद्र काँच मंदिर में मंगलवार को शाम 4 बजे से सामूहिक क्षमावाणी मनाई जाएगी। शहरभर के सभी जिनालयों में भी यह आयोजन होगा।

काँच मंदिर स्थित पर्व मंडप में उपाध्यायश्री ज्ञानसागरजी महाराज व महासती कुमुदलताजी के सान्निध्य में पूजन, आशीर्वचन व कलशाभिषेक के पश्चात सभी समाजजन एक-दूसरे से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से हुई भूलों के लिए क्षमा-याचना करेंगे।

उधर तिलकनगर मंदिर प्रांगण में सुबह 9 बजे वयोवृद्ध आचार्यश्री सीमंधरसागरजी महाराज के सान्निाध्य में कलशाभिषेक के पश्चात सामूहिक क्षमावाणी होगी। पंचायती मंदिर, छावनी में मुनिश्री शुभमसागरजी महाराज के सान्निध्य में शाम 4 बजे भगवान आदिनाथ के अभिषेक और अनंतनाथ जिनालय, छावनी मेनरोड पर भगवान अनंतनाथ के अभिषेक के पश्चात सामूहिक क्षमावाणी पर्व मनेगा।

गुरुवार को रात्रि 8.30 बजे नेमिनाथ मांगलिक भवन, छावनी पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ क्षमावाणी मिलन समारोह का आयोजन होगा।

शांतिनाथ दिगंबर जैन त्रिमूर्ति मंदिर, कालानीनगर में आचार्यश्री दर्शनसागरजी महाराज के सान्निध्य में सुबह 9 बजे सामूहिक क्षमावाणी के तहत पाँच या उससे ज्यादा निर्जल उपवास करने वालों का सम्मान किया जाएगा। यहाँ चारित्र शुद्धि महामंडल विधान व विश्वशांति महायज्ञ का समापन भव्य रथयात्रा के साथ होगा। महावीर मंदिर, वैशालीनगर-बृजविहार में अभिषेक, शांतिधारा, पूजन, कलशाभिषेक के पश्चात सामूहिक क्षमावाणी पर्व मनेगा। रात्रि 8 बजे सामूहिक आरती होगी।

ND|
गोयलनगर में शांतिनाथ जैन मित्र मंडल द्वारा विशेष अभिषेक व पूजन-अर्चन का कार्यक्रम रखा गया। नेमीनगर जैन कॉलोनी में मुनिश्री भूतबलीसागरजी महाराज के सान्निध्य में पर्व के समापन पर स्वर्ण व रजत कलश से अभिषेक कर भव्य शोभायात्रा निकाली गई।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बांग्लादेश में हैं माता के ये 5 शक्तिपीठ

बांग्लादेश में हैं माता के ये 5 शक्तिपीठ
भारत का बंटवारा जब हुआ था तब भारतीय हिन्दुओं ने अपने कई तीर्थ स्थल, शक्तिपीठ और प्राचीन ...

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?
मांग में सिंदूर सजाना एक वैवाहिक संस्कार है। सौभाग्यवती स्त्रियां मांग में जिस स्थान पर ...

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?
अधिकतर हिंदुओं के पास अपने ही धर्मग्रंथ को पढ़ने की फुरसत नहीं है। वेद, उपनिषद पढ़ना तो ...

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?
3112 ईसा पूर्व हुए भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। कलियुग का आरंभ शक संवत से 3176 वर्ष ...

केदारनाथ के प्रादुर्भाव से 2013 तक के इतिहास पर लेजर शो 28 ...

केदारनाथ के प्रादुर्भाव से 2013 तक के इतिहास पर लेजर शो 28 अप्रैल से
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सोमवार को कहा कि इस बार केदारनाथ में ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

राशिफल