जानिए होलिका दहन मुहूर्त

WD|
FILE


इस वर्ष पूर्णिमा केवल को प्रदोषव्यापिनी है। 27 मार्च को तो वह को बिल्कुल स्पर्श नहीं करती है। 26 मार्च को भद्रा 27 घंटे 41 मि. तक है।

इस वर्ष होलिका दहन 26 मार्च 2013 को मध्य रात्रि के बाद भद्रा के मुख को त्याग कर, भद्रा में ही करना होगा। इस दिन भद्रा का मुख 24.52 मिनट तक है।

इस दिन भद्रा मुख प्रदोष से काफी दूर अर्द्धरात्रि के बाद विद्यमान है। अतः 26 मार्च 2013 को भद्रामुख से रहित प्रदोष काल में होलिका दहन किया जा सकता है।
विभिन्न मतानुसार होलिका दहन के मुहूर्त

ज्यो‍तिषाचार्य अशोक पंवार के मतानुसार शास्त्रीय सम्मत से अर्द्धरात्रि में वैकल्पिक हिंदू मुहूर्त -

चौघड़‍िया - 3.43 से 6.27 तक अवधि = 2 घंटे 43 मिनट तक है।
ज्योर्तिविद् पं. ओम वशिष्ठ के के अनुसार होली दहन का श्रेष्ठ सम

सायं : 6.39 से रात 9.05 मिनट तक, तत्पश्चात मध्यरात्रि में : 11.44 मिनट से 12.25 मिनट तक।

27 मार्च धुलेंड़ी के दिन अल सुबह 3.44 मिनट से सूर्योदय तक का समय श्रेष्‍ठ रहेगा।

भद्रा : दोप. 2.24 से रात 3.44 तक
होली मनाएं लेकिन जल की बर्बादी से जितना हो सके बचना ही चा‍हिए। सूखे रंगों का प्रयोग करें व ऐसे रंग हो जो आसानी से साफ किए जा सके। सिल्वर पेन्ट, काले रंग आदि से बचा जाए।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बांग्लादेश में हैं माता के ये 5 शक्तिपीठ

बांग्लादेश में हैं माता के ये 5 शक्तिपीठ
भारत का बंटवारा जब हुआ था तब भारतीय हिन्दुओं ने अपने कई तीर्थ स्थल, शक्तिपीठ और प्राचीन ...

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?
मांग में सिंदूर सजाना एक वैवाहिक संस्कार है। सौभाग्यवती स्त्रियां मांग में जिस स्थान पर ...

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...

जानकी जयंती 2018 : पढ़ें पौराणिक एवं प्रामाणिक कथा

जानकी जयंती 2018 : पढ़ें पौराणिक एवं प्रामाणिक कथा
मारवाड़ क्षेत्र में एक वेदवादी श्रेष्ठ धर्मधुरीण ब्राह्मण निवास करते थे। उनका नाम देवदत्त ...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
राशियां जातक के व्यक्तित्व का दर्पण होती हैं। जातक का स्वरूप, स्वभाव एवं उसका व्यक्तित्व ...

23 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त

23 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- वैशाख, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...

आखिर बगलामुखी मां ने शत्रु की जुबान क्यों पकड़ी है,जानिए

आखिर बगलामुखी मां ने शत्रु की जुबान क्यों पकड़ी है,जानिए राज
देवी ने अपने बाएं हाथ से शत्रु या दैत्य की जिह्वा को पकड़ कर खींच रखा है तथा दाएं हाथ से ...

राशिफल