आज जब होली है तो वो ....

सतपाल ख्याल

NDND
हमने क्या-क्या ख़्वाब देखे थे इसी दिन के लिए
आज जब होली है तो वो घर से ही निकले नहीं

अब के है बारूद की बू चार-सू फैली हुई
खौफ़ फैला हर जगह आसार कुछ अच्छे नहीं.

उफ़ ! लड़कपन की वो रंगीनी न तुम पूछो 'ख़याल'
WD|
बात छोटी सी है पर हम आज तक समझे नहीदिल के कहने पर कभी भी फ़ैसले करते नहीं
सुर्ख़ रुख़्सारों पे हमने जब लगाया था गुलालदौड़कर छत्त पे चले जाना तेरा भूले नहीं हार, कुंडल,लाल बिंदिया,लाल जोड़े मे थे वोमेरे चेहरे की सफ़ेदी वो मगर समझे नहीं
तितलियों के रंग अब तक हाथ से छूटे नहीं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :