पिरामिड का जादुई प्रभाव

कैसे काम करता है पिरामिड

NDND
के अपने भीमकाय आकार, अनूठी संरचना और मजबूती के लिए तो जगत्‌ प्रसिद्ध हैं ही, लेकिन उससे भी कहीं अधिक प्रसिद्ध हैं अपने प्रभाव के लिए।

वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा यह प्रमाणित हो गया है कि पिरामिड के अंदर विलक्षण किस्म की ऊर्जा तरंगें लगातार काम करती रहती हैं, जो जड़ (निर्जीव) और चेतन (सजीव) दोनों ही प्रकार की वस्तुओं पर प्रभाव डालती हैं। वैज्ञानिकों ने पिरामिड के इस गुण को 'पिरामिड पॉवर' की संज्ञा दी है। पिरामिड चिकित्सा द्वारा विभिन्न रोगों के उपचार से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण परीक्षणों से प्राप्त नतीजे इस प्रकार हैं-

* सिर दर्द एवं दाँत दर्द के रोगियों को पिरामिड के अंदर बैठने पर दर्द से छुटकारा मिल जाता है। 'पिरामिड पॉवर' के आधुनिक खोजकर्ता स्वयं बोबिस ने पिरामिड के आकार की टोपी बनाई और पहनकर आजमाया। बोबिस का कहना है कि इसको पहनने से सिर दर्द तो दूर हो ही जाता है, साथ ही कई प्रकार के मानसिक विकार भी दूर हो जाते हैं।

* मानसिक तनाव से परेशान एक युवती ने पिरामिड के अंदर कुछ समय के लिए सोना शुरू कर दिया तो शीघ्र ही वह अच्छी नींद सोने लगी। दरअसल कुछ मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठने से शरीर का संतुलन ठीक हो जाता है, जिसके चलते तनाव दूर हो जाता है।

* घाव, छाले, खरोच आदि पिरामिड के अंदर बैठने से बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं।

* पिरामिड के अंदर रखे जल को पीने से टॉन्सिल की समस्या से छुटकारा मिलता है, आँखों को धोने से उसकी ज्योति बढ़ती है, पाचन क्रिया में सुधार होता है, घुटनों पर मलने से घुटनों, का दर्द दूर हो जाता है।

* एक परीक्षण के दौरान कुत्तों को चौकोर, गोल और पिरामिड के आकार के घरों में रखा गया। बाद में यह पाया गया कि पिरामिड के आकार के घरों में रहने वाले कुत्ते अधिक समझदार, अधिक आज्ञाकारी निकले और उनका स्वास्थ्य भी बेहतर हो गया।

* पिरामिड के अंदर किसी तरह की आवाज या संगीत बजाने पर बड़ी देर तक उसकी आवाज गूँजती रहती है। इससे वहाँ उपस्थित लोगों के शरीर पर विचित्र प्रकार के कम्पन पैदा होते हैं, जो मन और शरीर दोनों को शांति प्रदान करते हैं।


* जब कोई थका हुआ आदमी कुछ ही मिनटों के लिए पिरामिड में बैठता है, तो उसकी थकान दूर हो जाती है और वह शरीर में एक नई शक्ति का संचार महसूस करता है।

* साधना करने वालों ने पिरामिड के अंदर ध्यान लगाने के बाद दावा किया कि इसके अंदर बैठने से मन बहुत जल्दी एकाग्र हो जाता है। पिरामिड में बैठने से इच्छा शक्ति भी दृढ़ होती है।

* अनिद्रा की बीमारी दूर होती है व शराब पीने की आदत एवं नशीले पदार्थों के सेवन की लत को भी प्रतिदिन थोड़ी-थोड़ी देर के लिए पिरामिड के अंदर बैठकर छुड़ाया जा सकता है।

* प्रतिदिन पाँच से दस मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठने से इच्छा शक्ति दृढ़ होती है। थके हुए व्यक्ति को सिर्फ दस मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठा दिया जाए तो उसकी थकावट दूर हो जाती है और वह खुद को तरोताजा अनुभव करने लगता है।

WD|
* बीजों को बोने के पहले अगर थोड़ी देर के लिए पिरामिड के अंदर रख दिया जाए तो वे जल्दी और अच्छी तरह से अंकुरित होते हैं। बीमार और सुस्त पौधों को भी पिरामिड द्वारा ठीक और उत्तेजित किया जा सकता है।

विज्ञापन

और भी पढ़ें :