दही के फायदे अनेक

WD|
- धनंजय

नई दिल्ली। आम चुनाव में ई-मेल के जरिए नेताओं के चरित्रहनन की कोशिशें हों तो उस पर तुरंत विश्वास करने से बचें। यह विपक्षियों को ध्वस्त करने की सोची-समझी रणनीति के तहत निहायत बेबुनियाद हो सकते हैं। ब्रिटेन के आगामी आम चुनाव के पहले विपक्ष को बदनाम करने की व्यापक योजना आँख खोलने वाली है। इसका भंडाफोड़ होने के बाद ब्रिटेन में तूफान मच गया है। भाजपा, कांग्रेस, सपा सहित तमाम पार्टियों में ऐसे "जालसाज" (स्पिन डॉक्टर) मास्टरमाइंड की कमी नहीं है। ब्रिटेन जैसी योजनाएँ यहाँ भी बन रही हों तो कोई आश्चर्य नहीं।

विभिन्न पार्टियों की साइबर मशीनरी "ओवरटाइम" कर रही है। उनके स्पिन डॉक्टरों (शातिर दिमाग नेताओं) का दिमाग तेजी से चल रहा है। वे अपने विरोधियों को ढेर करने के लिए ई-मेल के हथियार बना रहे हैं। इनमें नेताओं के स्वास्थ्य व चरित्र संबंधी अफवाहें भी शामिल हो सकती हैं। राजग शासनकाल में एक "मास्टरमाइंड" व टॉप नौकरशाह विपक्षियों के खिलाफ चरित्र हनन का कैंपेन बुनने के लिए कुख्यात थे। नेता इन चुनाव में किस स्तर तक उतर सकते हैं, वह एक केंद्रीय मंत्री के स्टिंग ऑपरेशन की ताजा घटना से जाहिर हो चुका है।
ब्रिटेन में होने वाले आगामी आम चुनाव के लिए सत्ता पार्टी के एक रणनीतिकार ने विपक्ष को ध्वस्त करने के लिए जो योजना बनाई थी, कल हुए उसके खुलासे ने वहाँ राजनीतिक तूफान खड़ा कर दिया है। विपक्षी पार्टी टोरी (कंजरवेटिव) को बदनाम करने की साजिश से जुड़े पीएम आवास 10 डाउनिंग स्ट्रीट के ई-मेल के भंडाफोड़ के बाद लेबर पार्टी के प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन के रणनीतिकार व योजना के प्रमुख डामियान मैकब्राइड को इस्तीफा देना पड़ा है।
यह अभियान कंजरवेटिव नेता डैविड कैमरून, जॉर्ज ऑस्बर्न और तीन अन्य टोरी सांसदों को बदनाम करने के लिए बना था। इन अफवाहों को वेबसाइट पर डालने की योजना थी लेकिन लेबर पार्टी के एक ब्लॉगर को इस योजना से संबंधित संदेश के पकड़े जाने की वजह से पूरे मामले का भंडाफोड़ हो गया। चरित्र हनन के लिए बुनी गई कहानियों में सांसदों द्वारा नशीली दवा खाने एवं किसी वेश्या के सेक्स में लिप्त होने, एक सांसद की पत्नी की दिमागी हालत खराब होने, सांसद को एक खतरनाक व लज्जित करने वाली बीमारी के खुलासे की चुनौती देने व टोरी के एक समलैंगिक सांसद पर अपने मर्द साथी के बिजनेस को बढ़ाने के लिए कॉमन्स में पैरवी करने संबंधी अफवाहें शामिल थीं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :