हृदय व मस्तिष्क संबंधी दवाएँ

WD|
आयुर्वेदिक दवाओं की जानकारी में हम अभी तक अनेक प्रकार की दवाएँ तथा विभिन्न रोगों की दवाएँ बता चुके हैं।

इसी कड़ी के अंतर्गत हम मस्तिष्क संबंधी, रक्त संबंधी तथा मूत्र रोग संबंधी कुछ आयुर्वेदिक दवाओं की जानकारी दे रहे हैं।

हृदय व रक्त संबंधी औषधियाँ : हृदय की कमजोरी (धड़कन बढ़ना, अधिक पसीना आना, घबराहट, मुंह सूखना आदि में- अर्जुनारिष्ट, जवाहर मोहरा, हृदयार्णव रस, नागार्जुभ्रम रस, खमीरा, गावजवा, मुक्ता भस्म, मुक्ता पिष्टी।
उच्च रक्त चाप में (हाई ब्लड प्रेशर): सर्पगंधाघनवटी, रसोन वटी, सूतशेखर (स्वर्णयुक्त), मोती (मुक्तापिष्टी)।

पांडू (खून की कमी पर): पुनर्नवादि मंडूर, मंडूर भस्म, लोहासव, कांतिसार, नवायस लौह, ताप्यादि लौह।

कामला (पीलिया) में: लिवकेयर सीरप, आरोग्यवर्द्धिनी, अविपत्तिकर चूर्ण रोहितकारिष्ट, चन्द्रकला रस, प्रवाल पंचामृत।
शरीर की सूजन में: पुनर्नवारिष्ट, पुनर्नवामंडूर, शोथिर लौह, दुग्ध वटी (शोथ)।

मस्तिष्क संबंधी : सिर में भारीपन, आंखों से पानी बहना, कान में दर्द, नाक बहना, नाक में सूजन आदि में : अकसर सर्दी-बरसात में सुबह के समय तथा खाने के बाद होता है- लक्ष्मीविलास रस, अणुतौल।
पैत्तिक (सिर में दाह, नाक में खून आना आदि। गर्मी में दोपहर के समय सिर में दर्द होना) : स्वर्ण सूतशेखर रस, अणु तेल, रक्त स्तंभक, च्यवनप्राश, खमीरा संदल।

वातिक (सिर दर्द के साथ चक्कर, नींद न आना, आंखों में शुष्कता आदि) : गोदती भस्म, मृगश्रंग भस्म, अणुतौल।

अनन्तवात व सूर्यावर्त (आधीसीसी का सिर दर्द) : अणु तेल, षडबिन्दु तेल, स्वर्ण सूतशेखर रस, गोदती भस्म, शिरःशूलादि वज्र रस, त्रिफला चूर्ण।
स्मृति वर्द्धक व बुद्धि वर्द्धक औषधियां : ब्राह्मी रसायन, अश्वगंधारिष्ट, ब्राह्मी सारस्वत चूर्ण, घृत, बादाम तेल।

नींद न आना, चित्तभ्रम, घबराहट, बेचैनी आदि में : अश्वगंधारिष्ट ब्राह्मी रसायन, सारस्वतारिष्ट, ख्मीरा, गावजवां, जवाहर मोहरा, सूतशेखर रस व बादाम तेल।
अपस्मार (हिस्टीरिया, मूर्छा) आदि में : अश्वगंधारिष्ट, वात कुलांतक रस, ब्राह्मी रसायन, सारस्वतारिष्ट, ख्मीरा, जातिफलादि चूर्ण, वृहत्‌ वात चिंतामणि, स्मृतिगागर रस, स्नायु शक्तिदा।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कविता : भारत के वीर सपूत

कविता : भारत के वीर सपूत
तेईस मार्च को तीन वीर, भारतमाता की गोद चढ़े। स्वतंत्रता की बलवेदी पर,

सुनो नन्ही बच्चियों, हम अपराधी हैं तुम्हारे

सुनो नन्ही बच्चियों, हम अपराधी हैं तुम्हारे
माता-पिता की सघन छांव से अधिक सुरक्षित जगह क्या होगी.. ? सुरक्षा की उस कड़ी पहरेदारी में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

आम के यह 'खास' फायदे शर्तिया नहीं पता होंगे आपको

आम के यह 'खास' फायदे शर्तिया नहीं पता होंगे आपको
रसीले पके आम अत्यंत स्वादिष्ट लगते हैं। आइए जानते हैं इसके 5 ऐसे फायदे जो आपको अचरज में ...

मन को लुभाएगी लाजवाब चटपटी कैरी की चटनी...

मन को लुभाएगी लाजवाब चटपटी कैरी की चटनी...
एक कड़ाही में तेल गरम कर चना दाल, मैथी और जीरा डालकर भून लें। लाल मिर्च, मीठा नीम, हींग ...

मेरी मां : पढ़ें मदर्स डे पर निबंध

मेरी मां : पढ़ें मदर्स डे पर निबंध
हम मां के बारे में जितना भी लिखें वो कम ही होगा! मेरी मां सुबह मुझे जल्दी उठाती हैं, मेरा ...

मातृ दिवस पर निबंध

मातृ दिवस पर निबंध
दिवस, मातृ और दिवस शब्दों से मिलकर बना है जिसमें मातृ का अर्थ है मां और दिवस यानि दिन। इस ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

जानकी जयंती पर पढ़ें मां सीता की अचंभित कर देने वाली यह ...

जानकी जयंती पर पढ़ें मां सीता की अचंभित कर देने वाली यह कथा...
भगवान श्रीराम राजसभा में विराज रहे थे उसी समय विभीषण वहां पहुंचे। वे बहुत भयभीत और हड़बड़ी ...

लघुकथा : पत्रकार ?

लघुकथा : पत्रकार ?
एक राजनेता की किसी समारोह के दौरान चप्पलें गुम हो जाने की वजह से समारोह-स्थल से अपनी कार ...