चित्रा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

FILE


: चित्रा नक्षत्र के पहले दो चरणों में उत्पन्न जातक की जन्म राशि कन्या, राशि स्वामी बुध, अंतिम दो चरणों में जन्म होने पर जन्म राशि तुला तथा राशि स्वामी शुक्र, वर्ण वैश्य, वश्य नर, योनि व्याघ्र तथा नाड़ी मध्य है। यदि प्रथम दो चरणों में जन्म हुआ है तो जातक पर जीवनभर मंगल और बुध का असर रहेगा और यदि अंतिम चरणों में हुआ है तो जातक पर मंगल और शुक्र का प्रभाव बना रहेगा।

*प्रतीक चिह्न : सीप का मोती
*रंग : काला
*अक्षर : प, र
*वृक्ष : बेल का पेड़
*नक्षत्र स्वामी : मंगल
*राशि स्वामी : बुध और शुक्र
*देवता : विश्‍वकर्मा (त्वष्टा)
*शारीरिक गठन : चित्रा नक्षत्र में जन्म होने से जातक सुंदर नेत्र और शरीर वाला, चौड़े मस्तक वाला और बलिष्ठ शरीर वाला होता है।
भौतिक सुख : भूमि, पुत्र, स्त्री और धन का सुख रहेगा

सकारात्मक पक्ष : चित्रा में जन्म लेने वाला संतोषी, धनवान, देवताओं और ब्राह्मणों का भक्त होता है। चित्रा नक्षत्र के जन्म होने से जातक उच्चाभिलाषी, महत्वाकांक्षी, साहसी, साफ दृष्टियुक्त होता है। इस नक्षत्र के अंतर्गत जन्म लेने वाले लोग ऊर्जावान होते हैं। ये बुद्धिमान और शांतिप्रिय होते हैं। इनको जीवन में कई अवसर आते रहते हैं जिनसे भाग्य बदल सकता है।

नकारात्मक पक्ष : यदि मंगल, बुध या शुक्र की जन्म कुंडली में खराब स्थिति है, तो जातक दूसरे की स्त्री में अनुरक्त तथा शत्रुओं को संताप देने वाला होता है। थोड़ा-सा ही दुख सहने पर ये धोखेबाज और स्वार्थी बन जाते हैं। ये कुछ ऐसी बाते हैं जिनसे इनका भाग्य दुर्भाग्य में बदल सकता है।

-प्रस्तुति : शताय
WD|

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

सबसे शक्तिशाली है मां गंगा का यह एक पवित्र मंत्र, अवश्य ...

सबसे शक्तिशाली है मां गंगा का यह एक पवित्र मंत्र, अवश्य पढ़ें...
जीवन में मनचाही सफलता पाने के लिए रोजमर्रा कई उपाय किए जाते हैं। गंगा में स्नान करते समय ...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...
अक्सर अपनी जन्म पत्रिका का परीक्षण करवाते समय लोगों का प्रश्न होता है कि किस दिशा में ...

गंगा सप्तमी 2018 : आजमाएं ये 8 उपाय, होगा पापों का नाश...

गंगा सप्तमी 2018 : आजमाएं ये 8 उपाय, होगा पापों का नाश...
वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी कहा जाता है। इस वर्ष ये तिथि 22 ...

भगवान चित्रगुप्त का प्रकटोत्सव, जपें यह मंत्र...

भगवान चित्रगुप्त का प्रकटोत्सव, जपें यह मंत्र...
कायस्थ समाज के आराध्य भगवान चित्रगुप्त का वैशाख शुक्ल सप्तमी, रविवार, 22 अप्रैल 2018 को ...

शनिदेव के 11 चमत्कारी टोटके एवं उपाय करेंगे कार्यसिद्धि...

शनिदेव के 11 चमत्कारी टोटके एवं उपाय करेंगे कार्यसिद्धि...
सूर्यपुत्र शनिदेव के अशुभ प्रभावों को दूर कर शुभ प्रभावों को प्राप्त करने हेतु कई उपाय ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

2018 जानकी जयंती : जानिए पूजन का समय, मुहूर्त और महत्व...

2018 जानकी जयंती : जानिए पूजन का समय, मुहूर्त और महत्व...
इस वर्ष सीता नवमी 24 अप्रैल 2018, मंगलवार के दिन मनाई जा रही है। मंगलवार के दिन आने वाली ...

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...