Widgets Magazine

वर्ष 2007 : अक्षय कुमार और शाहरुख ने जीती बाजी

IFM
अक्षय की तीन फिल्में प्रदर्शित हुईं और तीनों हिट रहीं। ‘वेलकम’ आने वाली है। अक्षय कहते हैं कि वे किसी खान से कम नहीं है। हँसी मत उड़ाइए। अक्षय की बात में वजन है। लगातार सफल फिल्म देना मामूली बात नहीं है। अक्षय के चाहने वालों की संख्या में इस वर्ष जबरदस्त इजाफा हुआ है।

शाहरुख खान (चक दे इंडिया, ओम शांति ओम)
IFM
किंग खान की फिल्मों ने भी सफलता का डंका बजाया। ‘चक दे इंडिया’ में वे शाहरुख नहीं बल्कि कोच कबीर खान नजर आएँ। उनके अभिनय ने फिल्म को अतिरिक्त धार प्रदान की। ‘ओम शांति ओम’ में उन्होंने दर्शकों की खातिर कमीज भी उतार दी। यह फिल्म केवल शाहरुख के कारण सफल रही। मनोज कुमार रुठ गए तो उन्हें भी किंग खान ने मना लिया। इन दो फिल्मों की जबरदस्त कामयाबी ने शाहरुख का कद और ऊँचा कर दिया है।

सलमान खान (सलाम-ए-इश्क, पार्टनर, मेरीगोल्ड, साँवरिया)
सलमान की चार में से तीन फिल्में फ्लॉप रहीं। ‘सलाम-ए-इश्क’ और ‘मेरीगोल्ड’ सलमान ने क्या सोचकर की ये तो वे ही जानें। ‘साँवरिया’ के लिए उन्हें दोषी नहीं ठहराया जा सकता। ‘पार्टनर’ सलमान की एकमात्र हिट फिल्म रही। इस फिल्म में न केवल वे हैंडसम लगे, बल्कि गोविंदा के साथ उनकी जुगलबंदी भी खूब जमी। शादी के मामले में अभी भी वे कोई निर्णय नहीं ले पाए हैं।

अभिषेक बच्चन (गुरु, शूटआउट एट लोखंडवाला, झूम बराबर झूम, लागा चुनरी में दाग)
फिल्मों से ज्यादा जूनियर बच्चन अपनी शादी के लिए चर्चित रहें। ‘गुरु’ सफल रही। ‘झूम बराबर झूम’ में बेटे को सफलता दिलवाने के लिए बिग-बी फिल्म में आ गए, लेकिन बात नहीं बनी। ‘शूटआउट…’ और ‘लागा चुनरी में दाग’ में अभिषेक छोटी भूमिकाओं में नजर आएँ। अमिताभ के बेटे होने का लाभ अभिषेक कितने दिन उठाएँगे? जल्दी ही उन्हें अपने आपको साबित करना होगा।

सैफ अली खान (ता रा रम पम, एकलव्य)
IFM
सैफ मियाँ का ध्यान फिल्मों पर कम और गर्लफ्रेंड्‍स पर ज्यादा रहा। फिल्में तो दो प्रदर्शित हुईं, लेकिन नाम तीन लड़कियों (रोजा, बिपाशा और करीना) से जुड़ा। चौथे खान के रूप में अपने आपको स्थापित करने में लगे सैफ की उम्मीदों को इस वर्ष करारा झटका लगा।

अमिताभ बच्चन (नि:शब्द, एकलव्य, शूटआउट एट लोखंडवाला, चीनी कम, झूम बराबर झूम, रामगोपाल वर्मा की आग)
बिग-बी को इस वर्ष ‘नि:शब्द’ और ‘रामगोपाल वर्मा की आग’ जैसी फिल्में करने के कारण बदनामी झेलनी पड़ी। ‘चीनी कम’ के रूप में वे एकमात्र सफलता दर्ज कर सकें। अभिषेक की खातिर कुछ फिल्म करने का खामियाजा भी उन्हें भुगतना पड़ा। उम्मीद की जानी चाहिए कि 2008 में अमिताभ अपने प्रशंसकों को निराश नहीं करेंगे।

जॉन अब्राहम (सलाम-ए-इश्क, नो स्मोकिंग, गोल)
समय ताम्रकर|
वर्ष 2007 बिदा ले रहा हैं। करोड़ों रुपए लेकर काम करने वाले प्रमुख नायकों की क्या स्थिति है, आइए डाले एक नजर :
अक्षय कुमार (नमस्ते लंदन, हे बेबी, भूलभुलैया)
जॉन को करियर के बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए। अब तो उनके कट्टर प्रशंसक भी उनकी फिल्मों से दूर भागने लगे हैं। ‘गोल’ की नाकामयाबी से जॉन अपने समकालीन अभिनेताओं से बहुत पीछे चले गए हैं। जॉन को अभिनय में बहुत ज्यादा परिश्रम करने की जरूरत है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :