धैर्यवान का साथ देगा शेयर बाजार

WD
तकनीकी विश्‍लेषक हितेंद्र वासुदेव का कहना है कि बीएसई सेंसेक्‍स को 8799 अंक पर सपोर्ट मिलना चाहिए, क्‍योंकि यही वह स्‍तर है, जहाँ भारतीय शेयर बाजारों ने तेजी की दौड़ शुरू की थी और सेंसेक्‍स रिकॉर्ड ऊँचाई पर पहुँचा था।

सेंसेक्‍स की निचली रेंज 9720-8800 अंक दिखती है, लेकिन यह अंतिम नहीं है, क्‍योंकि बाजार सर्वोच्‍च है और उससे ऊपर कोई नहीं हो सकता। इस सप्‍ताह बीएसई सेंसेक्‍स को 9300-8799 पर सपोर्ट मिल सकता है।

साप्‍ताहिक रेसिस्टेंस 10585-11259-11870 पर देखने को मिलेगा। यदि सेंसेक्‍स इस सप्‍ताह 11870 अंक से ऊपर बंद होता है तो यह तगड़ा निचला स्‍तर बनाने से बच सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक की 24 अक्‍टूबर को मौद्रिक नीति की समीक्षा के अलावा 23 अक्‍टूबर को रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के नतीजे सामने आएँगे, जिनका बाजार पर सीधा असर पड़ेगा।

इस सप्‍ताह निवेशक नितिन फायर प्रोटेक्‍शन, बैंक ऑफ बड़ौदा, कार्बोरेंडम यूनिवर्सल, कर्नेक्‍स माइक्रोसिस्‍टम, एचडीएफसी बैंक, सुजलान एनर्जी, रेडिंगटन इंडिया, गेल, मैरिको, ओनमोबाइल ग्‍लोबल पर ध्‍यान दे सकते हैं। इसके अलावा हैवीवेट्स में हर उतार-चढ़ाव का सावधानी के साथ फायदा उठा सकते हैं।

कमल शर्मा|
ही नहीं, दुनियाभर के इस समय की चपेट में हैं, जिससे आम और खास दोनों तरह के निवेशक बुरी तरह मायूस हैं। शेयर बाजारों का और बुरा हाल होने की आशंका अभी भी बनी हुई है, लेकिन इतिहास इस बात का भी गवाह है कि बुरे दौर से गुजरने के बाद इस बाजार ने हमेशा बेहतर रिटर्न दिया है तभी तो दुनिया के सबसे बड़े निवेशक वारेन बफेट इस समय बेहतर अमेरिकी कंपनियों में निवेश कर रहे हैं। असल में शेयर बाजार और लक्ष्‍मी ने हमेशा धैर्यवानों का साथ दिया है।
  सेंसेक्‍स की निचली रेंज 9720-8800 अंक दिखती है, लेकिन यह अंतिम नहीं है, क्‍योंकि बाजार सर्वोच्‍च है और उससे ऊपर कोई नहीं हो सकता। इस सप्‍ताह बीएसई सेंसेक्‍स को 9300-8799 पर सपोर्ट मिल सकता है      
न्यूयॉर्क टाइम्स में लिखे अपने लेख में बफेट ने कहा है कि अमेरिका को खरीदो, मैं इसे खरीद रहा हूँ। वित्तीय संकट के केंद्र में बैठे इस शक्तिशाली और निवेशक का एक-एक शब्द निवेशकों के लिए पत्थर की लकीर जैसा होता है और इसका सकारात्मक असर दुनियाभर के बाजारों में पड़ सकता है। वे लिखते हैं कि 20वीं सदी में अमेरिका ने दो विश्व युद्धों के साथ लंबे समय तक चला शीतयुद्ध और अनेक मंदियाँ देखीं। हर बार लगा कि रिकवर कर पाना कठिन है, बावजूद डाउ जोंस 11497 पर पहुँच गया। अमेरिका, ताईवान सहित अनेक देशों ने अपने यहाँ शेयरों में शार्ट सेल पर रोक लगा दी है, ताकि मंदड़िए ज्‍यादा हावी न हो सकें, लेकिन भारत में सेबी ने इस पर कोई निर्णय नहीं किया है। सेबी के पूर्व अध्‍यक्ष डीआर मेहता के कार्यकाल में शार्ट सेल पर रोक लगाई गई थी, जिसे पिछले दिनों हटा लिया गया।अब एक बार फिर घरेलू शेयर बाजार में यह माँग जोरों पर उठ रही है कि जिस शार्ट सेल और फ्यूचर एंड ऑप्‍शन (एफएंडओ) ने अमेरिकी शेयर बाजार का पतन किया, उस पर भारत में रोक लगना चाहिए। सेबी ने अभी तक इस पर कुछ खुलकर नहीं कहा है, लेकिन उसने शार्ट सेल संबंधी आँकड़े और उसके प्रभाव को जानने की कसरत शुरू कर दी है। आईएमएफ के फर्स्ट डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर जॉन लिप्स्की का कहना है कि वित्तीय क्षेत्र में घट रही घटनाओं से आने वाले कुछ महीनों तक अनिश्चितता का माहौल बना रहेगा। वित्त क्षेत्र में बड़े संकट की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।रिलायंस कैपिटल के अध्यक्ष अनिल अंबानी ने पिछले दिनों कंपनी की सालाना आम बैठक में शेयरधारकों से कहा था कि अंतरराष्‍ट्रीय अर्थव्यवस्था के साथ एकीकरण के मद्देनजर मौजूदा वित्तीय संकट से भारत भी प्रभावित हुए बगैर नहीं रह सकता।आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट मैनेजमेंट के उपप्रबंध निदेशक और मुख्य निवेश अधिकारी नीलेश शाह मानते हैं कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि भारतीय बाजार कितने मजबूत हैं या हम क्या करते हैं। सबसे बड़ा असर इस बात से पड़ेगा कि अंतरराष्‍ट्रीय बाजार कैसा रहता है।इस समय अधिकतर इक्विटी विश्‍लेषक चुप हैं और उन्‍हें यह पता ही नहीं है कि बाजार कहाँ जाकर ठहरेगा। बस गिरने के साथ और गिरने की बात और बढ़ने के साथ उछाल की बात। किसी को भी अंदाजा नहीं था कि शेयर बाजार पूरी तरह पहाड़ के नीचे आ जाएँगे।वाह मनी की राय में बीएसई सेंसेक्‍स नीचे में 7500 अंक तक जा सकता है, लेकिन निवेशकों को बेहतर शेयरों की खरीद नौ हजार के आसपास से करना चाहिए और यह खरीद 20 फीसदी हिस्‍से की होना चाहिए। यानी नौ हजार अंक के बाद हर बड़ी नरमी पर इतने फीसदी ही खरीद।उदाहरण के लिए यदि आप टिस्‍को के सौ शेयर खरीदना चाहते हैं तो हर गिरावट पर 20-20 शेयर ही खरीदें। एक साथ सौ शेयर नहीं खरीदें। लेकिन एक बात यहाँ ध्‍यान रखें कि यह खरीद दो से तीन साल के लिए करें, क्‍योंकि सेंसेक्‍स को नई ऊंचाई पर पहुँचने में इतना वक्‍त लगेगा ही। बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज यानी बीएसई सेंसेक्‍स 20 अक्‍टूबर से शुरू हो रहे नए सप्‍ताह में 10388 अंक से 9527 अंक के बीच घूमता रहेगा। जबकि नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज यानी एनएसई का निफ्टी 3185 अंक से 2921 के बीच कारोबार करेगा।
*यह लेखक की निजी राय है। किसी भी प्रकार की जोखिम की जवाबदारी वेबदुनिया की नहीं होगी।


और भी पढ़ें :